आरती - बड़ी खबरें

आरती

श्री सत्यनारायणजी की आरती

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा | सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा रत्नजडित सिंहासन , अद्भुत छवि राजें | नारद करत निरतंर घंटा ध्वनी बाजें ॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.... प्रकट भयें कलिकारण ,द्विज को दरस दियो | बूढों ब्राम्हण बनके ,कंचन महल कियों ॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी..... दुर्बल भील
आरती

श्री संतोषी माता आरती

जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता । अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता ॥ जय सुंदर चीर सुनहरी, मां धारण कीन्हो । हीरा पन्ना दमके, तन श्रृंगार लीन्हो ॥ जय गेरू लाल छटा छवि, बदन कमल सोहे । मंद हँसत करूणामयी, त्रिभुवन जन मोहे ॥ जय स्वर्ण सिंहासन बैठी, चंवर ढुरे प्यारे । […]
आरती

गायत्री माता की आरती

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जग पालन कर्त्री। दुःख शोक भय क्लेश कलह दारिद्र्य दैन्य हर्त्री॥१॥ ब्रह्मरूपिणी, प्रणत पालिनी, जगत धातृ अम्बे। भव-भय हारी, जन हितकारी, सुखदा जगदम्बे॥२॥ भयहारिणि, भवतारिणि, अनघे अज आनन्द राशी। अविकारी, अघहरी, अविचलित, अमले, अविनाशी॥३॥ कामधेनु सत-चित-आनन्दा जय गंगा गीता। सविता की शाश्वती, […]
आरती

देवी अन्नपूर्णा की आरती

बारम्बार प्रणाम, मैया बारम्बार प्रणाम... जो नहीं ध्यावे तुम्हें अम्बिके, कहां उसे विश्राम।अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो, लेत होत सब काम॥ बारम्बार... प्रलय युगान्तर और जन्मान्तर, कालान्तर तक नाम।सुर सुरों की रचना करती, कहाँ कृष्ण कहाँ राम॥ बारम्बार... चूमहि चरण चतुर चतुरानन, चारु चक्रधर श्याम।चंद्रचूड़ चन्द्रानन चाकर, शोभा लखहि ललाम॥ बारम्बार... देवि देव! दयनीय दशा में […]
आरती

पार्वती जी की आरती

जय पार्वती माता जय पार्वती माता ब्रह्मा सनातन देवी शुभफल की दाता ।। अरिकुलापदम बिनासनी जय सेवक्त्राता, जगजीवन जगदंबा हरिहर गुणगाता ।। सिंह को बाहन साजे कुण्डल हैं साथा, देबबंधु जस गावत नृत्य करा ताथा ।। सतयुगरूपशील अतिसुन्दर नामसतीकहलाता, हेमाचल घर जन्मी सखियन संग राता ।। शुम्भ निशुम्भ विदारे हेमाचल स्थाता, सहस्त्र भुजा धरिके चक्र […]
आरती

सीता जी की आरती

सीता बिराजथि मिथिलाधाम सब मिलिकय करियनु आरती।संगहि सुशोभित लछुमन-राम सब मिलिकय करियनु आरती।। विपदा विनाशिनि सुखदा चराचर,सीता धिया बनि अयली सुनयना घरमिथिला के महिमा महान...सब मिलिकय करियनु आरती।।सीता बिराजथि... सीता सर्वेश्वरि ममता सरोवर,बायाँ कमल कर दायाँ अभय वरसौम्या सकल गुणधाम.....सब मिलिकय करियनु आरती।। सीता बिराजथि... रामप्रिया सर्वमंगल दायिनि,सीता सकल जगती
आरती

श्री राधा कृष्ण जी की आरती

ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्णश्री राधा कृष्णाय नमः .. घूम घुमारो घामर सोहे जय श्री राधापट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री कृष्ण .जुगल प्रेम रस झम झम झमकैश्री राधा कृष्णाय नमः .. राधा राधा कृष्ण कन्हैया जय श्री राधाभव भय सागर पार लगैया जय श्री […]
आरती

श्री बालाजी की आरती

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा। संकट मोचन स्वामी, तुम हो रनधीरा ॥ॐ जय॥ पवन पुत्र अंजनी सूत, महिमा अति भारी। दुःख दरिद्र मिटाओ, संकट सब हारी ॥ॐ जय॥ बाल समय में तुमने, रवि को भक्ष लियो। देवन स्तुति किन्ही, तुरतहिं छोड़ दियो ॥ॐ जय॥ कपि सुग्रीव राम संग मैत्री करवाई। अभिमानी बलि […]
आरती

श्री रामायण जी की आरती

आरती श्री रामायण जी की । कीरति कलित ललित सिय पी की ॥ गावत ब्रहमादिक मुनि नारद । बाल्मीकि बिग्यान बिसारद ॥ शुक सनकादिक शेष अरु शारद । बरनि पवनसुत कीरति नीकी ॥1॥ आरती श्री रामायण जी की........॥ गावत बेद पुरान अष्टदस । छओं शास्त्र सब ग्रंथन को रस ॥ मुनि जन धन संतान को […]
आरती

भगवान नरसिंह की आरती

!! ॐ जय नरसिंह हरे,प्रभु जय नरसिंह हरेस्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे जनका ताप हरेॐ जय नरसिंह हरे !! !! तुम हो दिन दयाला, भक्तन हितकारी, प्रभु भक्तन हितकारीअद्भुत रूप बनाकर, अद्भुत रूप बनाकर, प्रकटे भय हारीॐ जय नरसिंह हरे !! !! सबके ह्रदय विदारण, दुस्यु जियो मारी, प्रभु दुस्यु जियो मारीदास जान […]