होली त्यौहार व लठ्ठ मार होली 2019 महत्त्व, इतिहास, कथा ( Holi Festival or Lathmar holi 2019 significance, Katha, History in Hindi)

holi-songs

बुराई पर अच्छाई की जीत के जश्न का दूसरा नाम है होली का त्यौहार, जिसमे रंगों एवम फूलों से जश्न मनाने की रीत सदियों से चली आ रही है। मुख्यता यह त्यौहार दो दिन तक चलता है, पहला दिन होलिका दहन और दूसरा धुलेंडी का। धुलेंडी के दिन ही रंगो से खेला जाता है। इस त्यौहार का मुख्य उद्देश्य दिल में भरे आपसी द्वेष को भूलना होता है, जिसके चलते हमे आपसी बैर को छोड़कर अपनों को गले लगा लेना चाहिए।

भारत में फाल्गुन की पूर्णिमा के दिन होलिका दहन किया जाता है तथा चैत्र की प्रथमा के दिन रंग खेला जाता हैं। मगर क्या आप जानते है कि होली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है। इसके पीछे एक पौराणिक कथा हैं –


[wp_ad_camp_2]

होली की कथा

पौराणिक कथा के अनुसार, शक्तिशाली राजा हिरण्यकश्यप था, वह खुद को भगवान मनाता था और चाहता था कि हर कोई भगवान की तरह उसकी पूजा करें। वहीं अपने पिता के आदेश का पालन न करते हुए हिरण्यकश्यप के पुत्र प्रहलाद ने उसकी पूजा करने से इंकार कर दिया और उसकी जगह भगवान विष्णु की पूजा करनी शुरू कर दी। इस बात से नाराज हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र प्रहलाद को कई सजाएं दी जिनसे वह प्रभावित नहीं हुआ।

इसके बाद हिरण्यकश्यप और उसकी बहन होलिका ने मिलकर एक योजना बनाई की वह प्रहलाद के साथ चिता पर बैठेगी। होलिका के पास एक ऐसा कपड़ा था जिसे ओढ़ने के बाद उसे आग में किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचता, दूसरी तरह प्रहलाद के पास खुद को बचाने के लिए कुछ भी न था।

[wp_ad_camp_2]

जैसे ही आग जली, वैसे ही वह कपड़ा होलिका के पास से उड़कर प्रहलाद के ऊपर चला गया। इसी तरह प्रहलाद की जान बच गई और उसकी जगह होलिका उस आग में जल गई। यही कारण है होली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है।

उत्तर भारत में होली का विशेष रूप से मनाया जाता हैं, जिसके चलते मथुरा, वृन्दावन, ब्रज, गोकुल और नंदगाँव की होली सबसे ज्यादा प्रसिद्द हैं। आज के समय में सभी त्यौहार पार्टी के रूप में मनाये जाते हैं, जिसमे सभी नाते रिश्तेदार एवम दोस्त एक जगह एकत्र होकर त्यौहार का मजा लेते हैं। होली में विशेष रूप से भांग वाली ठंडाई पी जाती हैं। होली के गीतों के साथ सभी एक दुसरे को पकवान खिलाते और गुलाल लगाकर होली की बधाई देते हैं। पर आज हम आपको भारत मेव मनाये जाने वाली कुछ विशेष होली के बारे में बता रहे हैं –

लट्ठमार होली

इनमे बरसाना की होली `बेहद ही अनूठे है, जिसे लट्ठमार होली के नाम से जाना जाता है। इस होली में शहर की लडकियाँ लड़को को लट्ठ से मारती हैं, इसिलिय इसे लट्ठमार होली कहा जाता है। ग्वाले और गोपियों के बीच खेले जाने वाली यह होली ग्वालों के गाँव नंदगाँव और बरसाना की गोपियों के बीच खेली जाती हैं। ग्वाले गोपियों को रिझाने के लिए आते है और गोपियाँ उन्हें लठ्ठ मारती हैं तथा ग्वाले अपने बचाव के लिए ढाल का उपयोग करते हैं। मान्यता है कि यह खेल कृष्ण अपने सखाओ के साथ गोपियों के संग खेला करते थे, जिसने आज लठ्ठ मार होली का रूप ले लिया है। यह होली भारत की ही तरह विदेशो में भी प्रसिद्द हैं तथा प्रति वर्ष विदेशी पर्यटक इसे देखने भारत आते हैं।   

गैर वाली प्रसिद्द होली

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में रंगपंचमी के दिन गैर की होली खेली जाती हैं, जिसमे शहर के सभी इलाकों से पुरुष इकट्ठा होकर शहर के मध्य स्थान राजवाड़ा पर पहुँचते है। यहाँ होली का रंग हाथों से नहीं बल्कि टेंकर में भरकर लोगो पर बरसाया जाता है तथा घरों में भी टैंकर से रंग वाला पानी बरसाया जाता है। एक दिन पूर्व राजबाड़ा के आसपास के घरो एवं दुकानों को बड़े-बड़े प्लास्टिक द्वारा ढक दिया जाता है। इंदौर की रंगपंचमी पूरे देश में प्रसिद्द है।

[wp_ad_camp_2]


फाग महोत्सव :

कई जगह पर होली के त्यौहार में फाग महोत्सव का आयोजन भी किया जाता है, जिसके चलते फाग के गीत गाये जाते हैं। एक छोटी सी मंडली घर घर जाकर फाग के गीत गाती हैं तथा ढोलक व मंजीरा बजाते हुए नृत्य करते हैं।

होली के फ़िल्मी गाने (Holi Hindi Filmy Songs):

  • रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे        
  • होली के दिन दिल खिल जाते हैं रंगों में रंग मिल जाते हैं  
  • अंग से अंग लगाना सजन हमें ऐसे रंग लगाना  
  • गिव मी अ फेवर लेट्स प्ले होली  
  •  होलीरा में उड़े रे गुलाल कैयों रे मगेतर से  
  •  अरे जा रे हट नटखट     
  •  होली खेले रघुवीरा अवध में होली खेले रघुवीरा       
  •  देखो आई होली फिल्म  
  •  ओ देखो होली आई       
  •  फागुन आयो रे  
  •  बलम पिच्कारी जो तूने मुझे मारी  

इस होली पर बॉलीवुड के इन गीतों को बजाकर अपनी होली को शानदार बनाये |

[wp_ad_camp_2]


Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: holi essay nibandh date mahatva hindi katha in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Next Post

जोगीरा सा रा रा रा रा ...की हुंकार से भरी बनारस की होली

Mon Mar 18 , 2019
शायद ही कोई ऐसा शख्श होगा जिसने कभी बरसाने की होली का नाम न सुना हो, पर क्या आपने कभी बनारस की होली (Holi)  के बारे में सुना है। अगर नहीं तो आज हम आपको होली के एक नए अंदाज़ से परिचित करवाते हैं। यहाँ होली (Holi 2019)  मनाने का […]
Holi in banaras

All Post


Leave a Reply