धर्म का राजनीति से तलाक होना चाहिए : Osho rajneesh

Osho Pravachan On Dharm and poltics in hindi

Osho Pravachan On Dharm and poltics in hindi

मेरी सारी निष्ठा व्यक्ति में हैः समाज में नहीं, राष्ट्र में नहीं, अतीत में नहीं, भविष्य में नहीं। मेरी सारी निष्ठा वर्तमान में है और व्यक्ति में है। क्योंकि व्यक्ति ही रूपांतरित होता है, समाज रूपांतरित नहीं होते। क्रांति व्यक्ति में होती है, क्योंकि जीवन के पास आत्मा है। जहां आत्मा है, वहां परमात्मा उतर सकता है।

भारत और अभारत, देश और विदेश की भाषा अधार्मिक है। यह मौलिक रूप से राजनीति, कूटनीति, हिंसा, प्रतिहिंसा, वैमनस्य, इस सबको तो परिलक्षित करती है-धर्म को नहीं, ध्यान को नहीं, समाधि को नहीं।


ध्यान क्या देशी और क्या विदेशी? प्रेम क्या देशी और क्या विदेशी? रंग लोगों के अलग होंगे, चेहरे -मोहरे भिन्न होंगे, आत्माएं तो भिन्न नहीं! देह थोड़ी-बहुत भिन्न हो सकती है, फिर भी देह का जो शास्त्र है, वह तो एक है और आत्मा जो कि बिल्कुल एक है, उसके क्या अनेक शास्त्र होंगे? आत्मा को भी देशों के खंडों में बांटोगे?

इस बांटने के कारण ही कितना अहित हुआ है! इस बांटने के कारण पृथ्वी स्वर्ग नहीं बन पाई, पृथ्वी नर्क बन गई। क्योंकि खंडित जहां भी लोग हो जाएंगे, प्रतिस्पर्धा से भर जाएंगे, अहंकार पकड़ लेगा-वहीं नर्क है।

धर्म को राजनीति से न बांधो। धर्म की राजनीति से सगाई न करो। धर्म का राजनीति से तलाक होना चाहिए। यह सगाई बड़ी महंगी पड़ी है। इसमें राजनीति छाती पर चढ़ गई और धर्म धूल-धूसरित हो गया।

धार्मिक व्यक्ति का पहला लक्षण है, वह सीमाओं में नहीं सोचता। जो असीम को खोजने चला है, वह सीमाओं में सोचेगे? फिर सीमाओं का कोई अंत है? भाषा की सीमा है, रंग की सीमाएं हैं, अलग-अलग आचरण, अलग-अलग मौसम-इनकी सीमाएं हैं। अलग-अलग परंपराएं अलग-अलग धारणाएं जीवन की-इनकी सीमाएं हैं। कितने धर्म हैं पृथ्वी पर-तीन सौ! और कितने देश हैं, और कितनी भाषाएं हैं-कोई तीन हजार! सीमाओं को सोचने बैठोगे तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी।

जो सोचते हैं संस्कृत ही देववाणी है, उनके लिए बुद्ध-महावीर जाग्रत पुरुष नहीं हैं क्योंकि वे संस्कृत में नहीं बोले। संस्कृत शायद जानते भी नहीं थे। लोकभाषा में बोले। जो उस दिन जनता की भाषा थी, उसमें बोले, पाली में बोले, प्राकृत में बोले। जो सोचता है अरबी ही परमात्मा की भाषा है, उसके लिए कुरान के अतिरिक्त कोई किताब परमात्मा की नहीं रह जाती। या कोई सोचता है कि हिब्रू उसकी भाषा है, तो बस बाइबिल पर बात समाप्त हो गई।

तुम क्यों इतनी छोटी सीमाओं में सोचते हो? यह भी अहंकार का ही विस्तार है। क्योंकि तुम भारत में पैदा हुए, इसलिए भारत महान! तुम अगर चीन में पैदा होते तो चीन महान होता। तुम्हें अगर बचपन में ही चुपचाप चीन में ले जाकर छोड़ दिया गया होता और तुम चीन में बड़े होते तो तुम बुद्ध, महावीर, कृष्ण, नानक, कबीर, इनका नाम कभी न लेते, तुम लेते लाओत्सु, कनफ्यूशियस, च्वांगत्सू , लीहत्सू, जो तुमने शायद अभी सोचे भी नहीं। या तुम्हें अगर यूनान में पाला गया होता तो तुम कहते सुकरात, अरिस्टोटल, प्लेटो, हेराक्लाइटस, पाइथागोरस। कबीर की कहां गिनती होती। कबीर की तुम्हें याद भी नहीं आती। कबीर को तुम जानते भी नहीं।

यहां भी तुम अगर हिंदू घर में पैदा हुए हो या जैन घर में पैदा हुए हो, तो एक बात, अगर मुसलमान घर में पैदा हुए हो, तो तुम सोचते हो, इनमें से तुम एक भी नाम ले सकते। भारत-भूमि में ही अगर मुसलमान होते, तो मोहम्मद, बहाऊद्दीन, बायजीद, अलहिल्लाज मंसूर, राबिया, ये नाम तुम्हें याद आते। ये सिर्फ हमारी सीमाएं हैं। इन सीमाओं को तुम सत्य पर मत थोपो।

यहां पत्रकार आते हैं-खासकर भारतीय पत्रकार-उनका पहला सवाल होता है कि यहां इतने विदेशी क्यों हैं, देशी क्यों नहीं? लेकिन जर्मन नहीं पूछता कि यहां इतने इटालियन क्यों हैं। इटालियन नहीं पूछता कि यहां इतने डच क्यों हैं। डच नहीं पूछता कि इतने जापानी क्यों है। यह मूढ़ता तुम्हीं को क्यों पकड़ती है? और विदेशी ज्यादा दिखाई पड़ेंगे-स्वभावतः उसमें डच सम्मिलित है, स्वीडिश सम्मिलित है, स्विस सम्मिलित है, फ्रेंच सम्मिलित है, इटालियन सम्मिलित है, जर्मन, जापानी, चीनी, रूसी, कोरियन, आस्ट्रेलियन, उसमें सारी दुनिया सम्मिलित है। और भारत तो फिर एक छोटी सी चीज रह गई। तो फिर तुमको अड़चन होती है कि यहां भारतीय कम क्यों है? जैसे तुम्हें कुछ हीनता का बोध होता है।

यह सारी पृथ्वी का आश्रम है। यह तो संयोग की बात है कि यह भारत की सीमा में पड़ रहा है, सिर्फ संयोग की बात है। पाकिस्तान में हो सकता है, यह ईरान में हो सकता है, यह कहीं भी हो सकता है। यह बिल्कुल सांयोगिक है इसका यहां होना या वहां होना।


मेरी देशना सार्वलौकिक है, सार्वभौम है। लेकिन हमें हर चीज में यह उपद्रव सिखाया गया है। और अच्छे-अच्छे लोग उपद्रव सिखा गए हैं। जिनको हम अच्छे लोग कहते हैं, उनमें भी हमारी मौलिक भूलों के आधार बने ही रहते हैं, मिटते नहीं। देशी-विदेशी का भाव जाता ही नहीं।
छोड़ो यह भाव! सब विदेशी या सब देशी-दो में से कुछ एक चुन लो। मैं दोनों में से किसी से भी राजी हूं। मगर खंड न करो, अखंड रहने दो।
अब तुम पूछ रहे हो! क्या आपकी संपदा से भारत-भूमि वंचित रह जाएगी?

फिर वही भारत-भूमि वापस आ जाती है। तुम्हारा दिमाग विक्षिप्त तो नहीं है? यह भारत भूमि, भारत-भूमि क्या तुमने लगा रखी है? भूमि को कुछ भी पता नहीं है। जरा भूमि से तो पूछो! जरा मिट्टी भारत की उठा कर और चीन की मिट्टी उठा कर और जापान की मिट्ठी उठा कर, जरा तय करने की कोशिश करो कि कौन सी मिट्टी भारत की है और तुम मुश्किल में पड़ जाओगे। मिट्टी मिट्टी है। पत्थर पत्थर है। पानी पानी है। आदमी आदमी है। पुरुष पुरुष हैं, स्त्रियां स्त्रियां हैं लेकिन हम विशेषणों के आदी हो गए हैं।

अब तुम्हें यह डर लग रहा है कि यहां इतने विदेशी आ रहे हैं, कहीं इसके कारण जो सत्य मैं तुम्हें दे रहा हूं, वह विदेशी न लूट ले जाएं।
यह सत्य कुछ लूटने वाली चीज थोड़े ही है। जो लेगा, उसे मिलेगा। और तुम इसी चिंतन में न पड़े रहो। तुम भी जल्दी करो। तुम भी पीयो। और जिनको प्यास है, वे आ रहे हैं। जिनको इस देश में प्यास है, वे भी आ रहे हैं। जिनको बाहर के देशों में प्यास है, वे भी आ रहे हैं।

मेरी सारी निष्ठा व्यक्ति में है, समाज में नहीं, राष्ट्र में नहीं, अतीत में नहीं भविष्य में नहीं। मेरी सारी निष्ठा वर्तमान में और व्यक्ति में है। क्योंकि व्यक्ति ही रूपांतरित होता है, समाज रूपांतरित नहीं होते। क्रांति व्यक्ति में होती है, क्योंकि व्यक्ति के पास आत्मा है। जहां आत्मा है, वहां परमात्मा उतर सकता है। समाज की कोई आत्मा ही नहीं होती, वहां परमात्मा की कोई संभावना नहीं है।


-ओशो

Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: osho pravachan on dharm and poltics in hindi in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Next Post

Shravan 2019: सावन में Mahamrityunjaya Mantra का पुरश्चरण करने से मिलता है विशेष लाभ

Mon Aug 5 , 2019
Maha Mrityunjaya Mantra Purascharana in Hindi श्रावण मास को वैसे ही भगवान भोले शंकर का महीना माना जाता है। इस माह मेें जहां एक ओर भोले के भक्त दूर दूर से कांवर लाकर शिवलिंग पर अर्पित करते हैं, वहीं शिवभक्त इस माह में रुद्राभिषेक (Rudrabhishek) और महामृत्युंजय मंत्र (Mahamrityunjay Mantra […]
Maha Mrityunjaya Mantra Purascharana in Hindi

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।