धर्म कर्म - बड़ी खबरें

आरती

मां सरस्वती की आरती

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥ चंद्रवदनि पद्मासिनी, द्युति मंगलकारी। सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी ॥ जय. ॥ बाएं कर में वीणा, दूजे कर माला। शीश मुकुट-मणि‍ सोहे, गले मोतियन माला ॥ जय. ॥ देव शरण में आए, उनका उद्धार किया। पैठि मंथरा दासी,
धर्म कर्म

Holi 2019: भारत की ही तरह पाकिस्तान का भी होली से है गहरा नाता

प्रति वर्ष भारत में होली (Holi) का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। तरह तरह के पकवानों की महक और चारों और रंग बिरंगे बिखरे हुए रंग इस त्यौहार को और रंगीन बना देते हैं। मगर आपको बता दे कि जितना सम्बन्ध भारत (India) देश का इस त्यौहार से है उतना ही सम्बन्ध पाकिस्तान […]
आरती

श्री राम की आरती

जगमग जगमग ज्योति जली है। राम आरती होने लगी है॥1॥ भक्ति का दीपक प्रेम की बाती। आरती करें संत दिन राती॥2॥ आनंद की सरिता उभरी है। जगमग जगमग ज्योति जली है॥3॥ कनक सिंघासन सिया समेता। बैठें राम होएं चित चेता॥4॥ बाएं भाग में जनक लली हैं। जगमग जगमग ज्योति जली है॥5॥ आरती हनुमत के मन […]
धर्म कर्म

रुद्राक्ष धारण करना बदल सकता है किसी का भी जीवन

मान्यता है कि ओंकारेश्वर मंदिर और ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन के साथ साथ रूद्राक्ष के वृक्ष का दर्शन करने का बहुत महत्व है । माना जाता है कि रूद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शंकर के आंसुओं से हुआ है यही कारण है कि भगवान शिव की पूजा में रूद्राक्ष की माला का प्रयोग किया जाता है। […]
अजब गजब धर्म कर्म

Garud puran: गरुड़ पुराण में बताए गए हैं ऐसे ऐसे नर्क, जानकर दहल जाएगा दिल

सनातन धर्म में सदा से ही व्यक्ति को अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित किया जाता है, क्योंकि बहुत से पुराणों और धर्मग्रंथों में वर्णित है कि व्यक्ति जीवनभर जैसे कार्य करता है उसी के अनुरूप उसे फल प्राप्त होते हैं। हिंदू धर्म में गरुण पुराण की विशेष महत्ता है। माना जाता है कि गरुण पुराण […]
आरती

श्री राधा जी की आरती

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजु मूर्ति मोहन ममता की।। त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेक विराग विकासिनि। पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की।। आरती श्री वृषभानुसुता की… मुनि मन मोहन मोहन मोहनि, मधुर मनोहर मूरती सोहनि।। अविरलप्रेम अमिय रस दोहनि, प्रिय अति सदा सखी ललिता की।। आरती श्री वृषभानुसुता की… संतत सेव्य […]
आरती

आरती बंसी वाले की साफ मन तन के काले की

आरती बंसी वाले की साफ मन तन के काले की। आप मथुरा में जन्माएं, पिता ले गोकुल में आए।। छवि है नंद के लाले की, साफ मन तन के काले की।। आरती बंसी वाले की साफ मन तन के काले की… चेराई गौ यमुना तट पे, मुरलिया नित् बाजी वट पे। छवि गउओं के ग्वाले […]
आरती

आरती बाबा मोहन राम की

जगमग जगमग जोत जली है, मोहन आरती होन लगी है Jag Mag Jag Mag jyote jali hain Mohan Aarti Hon Lagi Hai जगमग जगमग जोत जली है, मोहन आरती होन लगी है। पर्वत खोली का सिंहासन, जाह पे मोहन लाते आसन।। वो मंदिर में देते भाषण, कला मोहन की बोहोत बड़ी है।। मोहन आरती होने […]
आरती

चामुण्डा देवी की आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी। निशिदिन तुमको ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवजी॥ जय अम्बेमाँग सिन्दूर विराजत, टीको, मृगमद को। उज्जवल से दोउ नयना, चन्द्रबदन नीको॥ जय अम्बेकनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजे। रक्त पुष्प गलमाला, कंठ हार साजे॥ जय अम्बेहरि वाहन राजत खड्ग खप्पर धारी। सुर नर मुनिजन सेवत, तिनके दु:ख हारी॥ जय अम्बेकानन कुण्डल […]
आरती

शीतला माता की आरती

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता, आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता।। जय शीतला माता… रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भ्राता। ऋद्धिसिद्धि चंवर डोलावें, जगमग छवि छाता।। जय शीतला माता… विष्णु सेवत ठाढ़े, सेवें शिव धाता। वेद पुराण बरणत पार नहीं पाता।। जय शीतला माता.. इन्द्र मृदंग बजावत चन्द्र वीणा हाथा। सूरज ताल […]