वैदिक ज्योतिष में जन्मकुंडली के सप्तम भाव को विवाह स्थान कहा जाता है। इस भाव से किसी जातक के वैवाहिक सुख, शैयया सुख, साझेदारी, जीवनसाथी का स्वभाव, व्यापार और विदेश में प्रवास के योग, कोर्ट कचहरी के मामले को देखा जाता है। जन्म कुंडली का सप्तम भाव किसी जातक को […]

Rahu in Sixth House in Hindi वैदिक ज्योतिष में कुंडली के छठे भाव को रोग स्थान या शत्रु स्थान भी कहा जाता है। कुंडली के इस भाव से किसी भी व्यक्ति के दुश्मनों, बिमारी, भय और तनाव का पता चलता है। कुंडली का छटा भाव गृह कलह, मुकदमें, मामा मौसी […]

Rahu in Fifth House in Hindi जन्मकुंडली के पांचवे भाव को संतान भाव भी कहा जाता है। इस भाव से बच्चों से मिलने वाले सुख, विद्या्, बुद्धि और उच्चशिक्षा, पाचन शक्ति और अचानक धन लाभ और नौकरी परिवर्तन का विचार किया जाता है। वैदिक ज्योतिष में माना जाता है कि […]

Rahu in Fourth House in Hindi वैदिक ज्योतिष में कुंडली के चौथे घर को मातृस्थान कहा जाता है। इस भाव से जातक को प्राप्त होने वाले मातृसुख, गृह सुख, वाहन का सुख, मित्र, पेट के रोग और मानसिक स्थिति का विचार किया जाता है। जन्मकुंडली के चौथे भाव में स्थित […]

Rahu in Third House in Hindi वैदिक ज्योतिष में जन्मकुंडली के तीसरे भाव को सहज भाव या पराक्रम भाव भी कहा जाता है। इस भाव से किसी भी जातक के छोटे भाई बन, नौकर चाकर, धैर्य, साहस, बल कंधे और हाथ आदि का विचार किया जाता है। कुंडली के तीसरे […]

Rahu in Second House in Hindi वैदिक ज्योतिष में कुंडली के द्वितीय भाव को धन भाव भी कहा जाता है। इस भाव से जातक की आर्थिक स्थिति, उसे प्राप्त होने वाले परिवार का सुख, वाणी, जीभी, खाना पीना और संपत्ति के बारे में भी जाना जा सकता है। कुंडली के […]

Rahu in First House in Hindi वैदिक ज्योतिष में सभी नौ ग्रहों में राहु को विशेष स्थान प्राप्त है। ज्योतिष शास्त्र में वैसे तो राहु को एक क्रूर ग्रह की संज्ञा दी गई है, पर माना जाता है कि जिस भी जातक पर राहु की कृपा हो जाए वो उसे […]

Shri krishna aarti in hindi परमानन्द मुरारी मोहन गिरधारी। जय रस रास बिहारी जय जय गिरधारी। कर कंकन कटि सोहत कानन में बाला। मोर मुकुट पीताम्बर सोहे बनमाला। दीन सुदामा तारे दरिद्रों के दुख टारे। गज के फंद छुड़ाए भवसागर तारे। हिरण्यकश्यप संहारे नरहरि रुप धरे। पाहन से प्रभु प्रगटे […]

होलिका पूजन को लाभ की दृष्टि से देखा जाता है अर्थात माना जाता है कि होलिका की पूजा करने से व्यक्ति को शुभ फल की प्राप्ति होती है। साथ ही साथ कुछ ऐसे टोटके भी है जिन्हें अपनाने से नकारात्कमता को दूर कर के  बीमारियों से बचाव या शुभ फलों […]

Gayatri mata ki aarti in hindi गायत्री माता की आरती जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जगपालक कत्री। दुख शोक, भय, क्लेश दारिद्र दैन्य हत्री।। जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। ब्रह्म रूपिणी, प्रणात पालिन जगत धातृ अम्बे। भव भयहारी, जन-हितकारी, […]