सावन को ही क्यों कहा जाता है शिव का महीना

why shravan month is celebrated in hindi

ये तो सभी जानते हैं कि सावन का माह शिव पुजन के लिए सबसे उपयुक्त समय होता है। जहां एक ओर सावन में भक्त कांवर लाकर अपने भोले पर जल चढ़ाते हैं, वहीं कई लोग इसी माह को रूद्राभिषेक और शिव की कई तरह की साधनाओं के लिए सबसे सही समय बताते हैं। पौराणिक धर्मग्रंथों में तो यह तक बताया गया है कि सावन माह सिर्फ सोमवार को व्रत करने व शिवलिंग पर जल चढ़ाने से भक्तों के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

शास्त्रों में मान्यता है कि सावन के महीने में सबसे ज्यादा वर्षा होती है, जो विष से गर्म शिव जी के शरीर को ठंडक प्रदान करती है इसीलिए शिव जी को सावन का माह अतिप्रिय है । वैसे इस विषय में और बहुत सी पुरातन कथाएं प्रचलित हैं कि सावन ही भोले बाबा का सबसे प्रिय माह क्यों हैं।


[wp_ad_camp_2]

सबसे पुरानी कथा के अनुसार सती ने दक्ष के यज्ञ में अपना शरीर त्यागने से पूर्व ही हर जन्म में शिव को ही पति के रूप में प्राप्त करने का प्रण लिया था, इसीलिए जब उन्होंने दोबारा पार्वती के रूप में जन्म लिया तो शिव को प्राप्त करने के लिए कठोर साधना की। बताया जाता है कि शिव को प्राप्त करने के लिए पार्वती ने इसी माह में सबसे ज्यादा तप किया था। इस पूजा से प्रसन्‍न होकर शिव ने उनसे विवाह कर लिया तभी से ये महीना शिव जी के लिए प्रिय हो गया। सनत कुमारों ने जब शिव जी से उनका प्रिय सावन का महीना होने का कारण पूछा था तब शिव जी ने उन्हें स्वयं ये कहानी सुनाई थी ।

एक अन्‍य कथानुसार कहा जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव जी ने समुद्र मंथन से निकला विष पीकर सृष्टि की रक्षा की थी। यहीं कारण है कि इस महीने को शिव जी का प्रिय महीना माना जाता है।

[wp_ad_camp_2]

गुरुपूर्णिमा: गुरु दिलाता है आमवागमन के चक्र से मुक्ति

गरुण पुराण की सजा: ऐसे ऐसे नरक जानकर दहल जाएगा दिल

शनि कथा: शनिदेव के बारे में जानिए विस्तार से

दसमहाविद्याओं की साधना के लाभ जानिए

जन्मकुंडली के अलग अलग भावों में शनि का फल

Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: why shravan month is celebrated in hindi in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Next Post

अदम गोंडवी हिंदी गजल : न महलों की बुलंदी से न लफ़्ज़ों के नगीने से  

Sun Aug 5 , 2018
न महलों की बुलंदी से न लफ़्ज़ों के नगीने से तमद्दुन में निखार आता है घीसू के पसीने से कि अब मर्क़ज़ में रोटी है, मुहब्बत हाशिए पर है उतर आई ग़ज़ल इस दौर में कोठी के ज़ीने से अदब का आईना उन तंग गलियों से गुज़रता है जहाँ बचपन […]
Adam Gondvi Hindi Gazal N Mahalo ki bulandi se n Lafzo ke Nageene seAdam Gondvi Hindi Gazal N Mahalo ki bulandi se n Lafzo ke Nageene se

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।