• मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर कर रहा कोरोना वायरस

  • डिप्रेशन, घरेलू हिंसा, और सुसाइड के रेट में भी बढ़ोत्तरी

  • कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद मानसिक बीमारी से पीड़ित रोगियों की संख्या में वृद्धि

नई दिल्ली 2 जुलाई (एजेंसी) कोविड-19 और लॉकडाउन के कारण देश भर में मानसिक स्वास्थ्य का मुद्दा तेजी से उभर रहा है।क्योंकि कोरोना वायरस ने हमारे दैनिक जीवन में काफी गहरा प्रभाव डाला है। जिसकी उम्मीद किसी को भी न थी। इसके चलते देश का एक बड़ा तबका तनाव में ज़िन्दगी जी रहा है। आपको बता दें कि इसके कारण कुछ ही महीनों में हर उम्र के लोगों में डर, घबराहट, चिंता, असुरक्षा की भावना, नींद की परेशानी, मानसिक उतार-चढ़ाव, और कई प्रकार की नकारात्मक विचारधारा उत्पन्न हो गई हैं। डिप्रेशन, घरेलू हिंसा, और सुसाइड के रेट में भी बढ़ोत्तरी भी देखने को मिली है।

इंडियन साइकियाट्रिक सोसाइटी (आईपीएस) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद मानसिक बीमारी से पीड़ित रोगियों की संख्या में वृद्धि देखी है। हालहीं में उनके द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण से पता चला है कि मानसिक बीमारी के मामलों में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, कम से कम पांच में से एक भारतीय इस बीमारी से पीड़ित है। अब समय आ गया है कि इसका मूल्यांकन किया जाए और इससे लड़ने के तरीके ढूंढे जायें।

रिहैबिलिटेशन काउंसलर मौमिता चटर्जी बता रहीं है कि किन तकनीकों कि मदद से हम मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं और पहले से स्वस्थ ज़िन्दगी जी सकते हैं –

1. माइंडफुलनेस – अतीत के बारे में बहुत ज्यादा खोदना और भविष्य के बारे में बहुत ज्यादा सोचना केवल आपके लिए चिंता का विषय होगा। सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ जितना संभव हो सके वर्तमान समय और परिस्थितयों पर ध्यान देने की कोशिश करें।

2. आभार/कृतज्ञता – कृतज्ञता सर्वश्रेष्ठ दृष्टिकोण है, आपके अपने जीवन में जो भी अच्छी चीजें अभी मौजूद हैं, उनके लिए आभार प्रकट करें। इससे आपके मन में संतुष्टि कि भावना उत्पन्न होगी और जीवन में पॉजिटिविटी आएगी।

3. व्यायाम – अपने व्यक्तित्व और रुचि के अनुसार किसी भी कला जैसे नृत्य, योग, किकबॉक्सिंग, ताई ची आदि का चयन करें। नियमित रूप से करें। यह आपके खुश हार्मोन को बनाए रखने में मदद करेगा। आखिरकार, एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वस्थ दिमाग होता है।

4. ध्यान (मेडिटेशन) – तनाव, चिंता को कम करने के लिए या अच्छी नींद के लिए मेडिटेशन बेहद जरुरी है। यदि आपको पता नहीं है कि आपको कैसे शुरू करना है तो इस तरह कि वीडियो ऑनलाइन आसानी से उपलब्ध हैं।

5. स्वस्थ आदतें – अगर आप घर से काम कर रहे हैं तो भी एक स्वस्थ शेड्यूल बनाए रखें। विशेष रूप से बच्चों के लिए, अन्यथा स्कूल दोबारा खुलने पर मुश्किलें आ सकती हैं। पौष्टिक भोजन का सेवन और उचित नींद लेना हमारे शरीर के खुद की चिकित्सा तंत्र को बढ़ावा देता है।

6. कुछ नया सीखें – इस समय में सीखने के लिए एक नया कौशल या शौक चुनें। इस अप्रत्याशित दिए गए समय का उपयोग उन चीजों को सीखने के लिए करें जिन्हें आप समय की कमी के कारण आज तक नहीं कर सके हैं। बेहतर पहलुओं को तराशने के लिए इस समय का उपयोग करें।

7. मनोरंजन – किताबें पढ़ें, डायरी लिखें, टीवी देखें, नृत्य करें या सीखें, ऑनलाइन सीरीज देखें, मित्रों से लगातार संपर्क में रहें। या फिर अपने इंटरेस्ट के मुताबिक कोई भी मनोरंजन का साधन तलाश सकते हैं, आदि आदि। कुल मिलाकर इं सब चीजों से आपके दिमाग को सुकून मिलेगा।

8. दूसरों पर ध्यान दें – इस एक्सरसाइज को “ईच 1 कॉल 1” बुलाएं। आप एक जिम्मेदार नागरिक हैं और ज़रूरत पड़ने पर किसी की सहायता करने में सक्षम भी हैं। हर दिन किसी ऐसे व्यक्ति को कॉल अवश्य करने की कोशिश करें जो आपके शहर में अकेला रह रहा हो, या जो घरेलू हिंसा का सामना कर रहा हो या कोई जो हताशा का शिकार हो सकता हो। अगर किसी व्यक्ति के मन में आत्महत्या के विचार आ रहे हो तो तुरंत ही उसको मनोचिकित्सक के पास ले जाए, उसके विचारों कि सूचना तत्परता से उसके अपनों तक पहुंचाना न भूलें।

9. सकारात्मक पुष्टिकरण – यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो ब्रम्हांड के आकर्षण के नियम, पॉजिटिव एफरमेशन, माइंड पॉवर में विश्वास करते हैं, तो सकारात्मक प्रयास करें जैसे मैं स्वस्थ हूं, मेरे पास एक अच्छी प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्यून सिस्टम) है, मैं हर स्थिति का सामना करने के लिए सक्षम हूं आदि।

10. अपने विचार साझा करें / लोगों से बात करें – लोगों से बात करें। अपने विचार और दिनचर्या साझा करें। लोगों से पूछें कि वे किस दौर से गुजर रहे हैं। जरूरत हो तो किसी प्रोफेशनल से बात करें। कई ऑनलाइन मानसिक स्वास्थ्य संगठन इस चरण में आपका मार्गदर्शन करने के लिए स्वयं सेवा प्रदान कर रहे हैं। अंतिम लेकिन सबसे जरुरी, खुद को आयने में देखना न भूलें और अपने पसंदीदा व्यक्ति को एक मुस्कान दें। शुभकामनाएं!

moumita Chatterjee

मौमिता चटर्जी
रिहैबिलिटेशन काउंसलर एवं लाइफ कोच
[email protected]

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें