• अमेरिकन नेवी, आर्मी और एयरफाॅर्स तक कोरोना से प्रभावित

  • परमाणु ऊर्जा चालित विमानवाहक पोत को इस वायरस की मार पड़ी

  • 41 राज्यों के 150 सैन्य ठिकाने हुए कोरोना संक्रमित

  • अमेरिका के पास परमाणु हथियार एक बड़ी तादाद में मौजूद

वाशिंगटन, 11 अप्रैल (एजेंसी)। महाशक्ति बन दुनिया पर अपनी धाक ज़माने वाले अमेरिका को भी कोरोना महामारी (Coronavirus) ने बेबस और लाचार बना  दिया है। आलम यह है कि इस वायरस ने अमेरिका के परमाणु ठिकानों तक अपना दायरा फैला लिया है।

सूत्रों ने माने तो अमेरिका के तीन हजार सैनिक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जिसके चलते स्थिति और भयवह बनती जा रही है । मामला इतना गंभीर है कि मात्र एक  हफ्ते में  इस संख्या में दुगना इजाफा देखा गया है । कोरोना वायरस के कहर ने पूरी दुनिया को एक खतरे की ओर धकेल दिया है। अमेरिका (America) में इससे सबसे ज्यादा प्रभावित पाया गया है और उसके बाद आर्मी और फिर एयरफोर्स।

4 परमाणु ऊर्जा चालित विमानवाहक पोत को इस वायरस की मार पड़ी

अमेरिकी पत्रिका न्यूज वीक (Newsweek) के मुताबिक अमेरिका के 41 राज्यों में स्थित 150 सैन्य ठिकानों तक किलर कोरोना वायरस पहुंच गया है। यही नहीं दुनिया में अमेरिकी नौसैनिक शक्ति का प्रतीक माने जाने वाले 4 परमाणु ऊर्जा चालित विमानवाहक पोत भी कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं। हाल ही में अमेरिकी विमानवाहक यूएसएस थियोडोर रुजवेल्ट के 4 हजार नौसैनिकों को गुआम ले जाया गया था। वहां उनकी जांच की जा रही है। इसमें बड़ी तादाद में नौसैनिकों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के मुताबिक उसके 3 हजार सैनिक कोरोना पॉजिटिव हैं। हालत यह है कि अमेरिका के अंदर और बाहर स्थित उसके ठिकानों तक कोरोना वायरस बहुत तेजी से पैर पसार रहा है। इसकी वजह से अमेरिकी सेना की सभी गैर जरूरी गतिविधियां रुक गई हैं। इसके अलावा सैनिकों का प्रशिक्षण और उनकी भर्ती भी नहीं हो रही है।

41 राज्यों के 150 सैन्य ठिकाने हुए कोरोना संक्रमित

अमेरिका के 41 राज्यों में स्थित सैन्य ठिकानों को कोरोना वायरस ने अपनी चपेट में ले लिया है। सबसे ज्यादा संकट सैन डियागो, नोरफॉक, वर्जिनिया और जैक्शनविले, फ्लोरिडा और टेक्सास के नौसैनिक ठिकानों पर आया है। यूएस एयरफोर्स के मेरीलैंड स्थित हवाई ठिकाने पर बड़ी संख्या में कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है। वहीं सेना के साउथ कैरोलिना आदि ठिकानों को भी कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया है।

दुनिया में हथियारों पर निगरानी करने वाली संस्था सिप्री के वैज्ञानिक हैन्स क्रिस्टेंशन के मुताबिक कोरोना वायरस अब अमेरिका के ज्यादातर परमाणु हथियार ठिकानों तक पहुंच चुका है। रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक कोरोना वायरस का परमाणु हथियार ठिकानों तक पहुंचना दुनिया के लिए बहुत खतरनाक लक्षण है। इससे उनकी सुरक्षा के साथ समझौता हो सकता है। हालांकि अमेरिकी परमाणु बमों की सुरक्षा दुनिया में बेहतरीन मानी जाती है।

अमेरिका के पास परमाणु हथियार एक बड़ी तादाद में मौजूद

आपको बताते दें कि इस समय दुनिया में सबसे अधिक परमाणु हथियार अमेरिका के पास ही है। अमेरिका के पास 3800 परमाणु हथियार हैं। ये परमाणु बम पूरी दुनिया को एक बार नहीं कई बार नष्ट कर सकते हैं। इन परमाणु हथियारों को ले जाने के लिए अमेरिका के पास 800 मिसाइले हैं। ये मिसाइलें दुनिया के किसी भी शहर को पलक झपकते ही तबाह कर सकती हैं। सिप्री के मुताबिक अमेरिका ने 1750 परमाणु बमों को मिसाइलों और बमवर्षक विमानों में तैनात कर रखा है। इसमें से 150 परमाणु बम अमेरिका ने यूरोप में तैनात कर रखे हैं ताकि रूस पर नजर रखी जा सके।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें