इंजीनियरिंग और डॉक्टर से कम नहीं है फैशन डिजाइनर : सुनील सेठी

sunil sethi

हमारी खादी दुनियाभर में मशहूर है। पहले खादी में सिर्फ पारंपरिक स्टाइल होती थी, लेकिन अब बहुत सारे डिजाइनरों ने भी इस क्षेत्र में काम शुरू किया है।
खादी और हैंडलूम का तो बहुत ज्यादा महत्व है। मैं हैंडलूम बोर्ड का अध्यक्ष भी रह चुका हूं। मुझे लगता है कि हमें इस पर सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए। कोई भी विदेश से आता है तो उसे वही चीज पंसद आती है जो भारतीय हो। बहुत से डिजायनर इस क्षेत्र में बहुत काम कर रहे हैं और कई लोगों को तो कपड़ा मंत्रालय से मदद भी मिल रही है।

पर्ल्स के पिछले फैशन इवेंट में आपने इंडियन मेटेरियल आर्ट और योग को एक साथ लाकर एक नया-अनूठा प्रयोग किया था। इसका मतलब है कि आप बुनियादी तौर पर भारतीयता को प्रमोट कर रहे हैं?
यह काम तो मैं छोड़ ही नहीं सकता। अगर आप विदेश में कहीं बंद गले का सूट पहन कर चले जाएं तो लोग उसे नोटिस करते हैं। वहीं अगर आप किसी अंतराष्ट्रीय डिजायनर का सूट पहन कर जाएं तो लगेगा कि ऐसे तो बहुत आते हैं। तो मुझेे तो अपनी भारतीयता पर बहुत गर्व है। मैंने कई जगहों पर, विदेशों में भारतीय फैशन को प्रमोट किया है।


अब तो फिल्म-स्टार राजनेता और खिलाड़ी भी रैंप शो का हिस्सा बन रहे हैं इस बारे में क्या कहेंगे?
हमारी इंडस्ट्री में ग्लैमर के अलावा और भी बहुत कुछ है। कोई भी सेलिब्रेटी यहां आता है तो वो चार चांद ही लगाता है। सेलिब्रेटी जब आते हैं तो नजर कपड़ों पर कम उन पर ज्यादा होती है, इसलिए कई डिजानर सेलिब्रेटी से दूर भागते हैं, पर मुझे लगता है कि सेलिब्रेटी के आने से हमारा ‘कंटेट’ और भी बढ़ता है।, जो कि अच्छा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

Read all Latest Post on साक्षात्कार interview in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: intervew of fashion designer suneel sethi by sharad dutt in Hindi  | In Category: साक्षात्कार interview

Next Post

मेरी पांडुलिपि ने बच्चनजी को आत्मकथा लिखने के लिए प्रेरित किया-अजित कुमार

Tue May 10 , 2016
आप कविता, गद्य, आलोचना के अलावा यात्रा-संस्मरण भी लिखते हैं। दरअसल मैं कविता, कहानी, उपन्यास पर एक ही समय में सोच सकता हूं। अपने पहले यात्रा वृतांत ‘सफर झोली में’ मैंने ऐसी ही कोशिश की कि वह आलोचना भी हो, कविता भी हो, उपन्यास भी हो, कथा भी हो और […]

Leave a Reply