खासखबर

एक शब्‍दयोगी की आत्‍मगाथा

शब्‍दों के संसार में पि‍छले सत्‍तर साल से सक्रिय अरविंद कुमार को आधुनि‍क हिंदी कोशकारि‍ता की नीवं रखने का श्रेय जाता है। कोशकारि‍ता के लि‍ए कि‍ए अपना सब कुछ दांव में लगाने वाले अरविंद जी का जीवन संघर्ष भी कम रोमांचक नहीं है। पंद्रह साल की उम्र में उन्‍होंने हाई स्‍कूल की परीक्षा दी और पारि‍वारि‍क कारणों से रि‍जल्‍ट आने से पहले ही दि‍ल्‍ली प्रेस में कंपोजिंग से पहले डि‍स्‍ट्रीब्‍यूटरी सीखने के लि‍ए नौकरी शुरू कर दी। एक बाल श्रमि‍क के रूप में अपना कॅरि‍यर शुरू करने वाले अरविंद कुमार कैसे दि‍ल्‍ली प्रेस में सभी पत्रि‍काओं के इंचार्ज बने, कैसे अपने समय की चर्चित फि‍ल्‍म पत्रि‍का ‘माधुरी’ के संस्‍थापक संपादक बन उसे एक वि‍शि‍ष्‍ट पहचान दी और फि‍र कैसे रीडर डायजेस्‍ट के हिंदी संस्‍करण ‘सर्वोत्‍तम’ की की शुरुआत कर उसे लोकप्रि‍यता के शि‍खर तक पहुंचाया, ये सब जानना, एक कर्मयोगी के जीवन संघर्ष को जानने के लि‍ए जरूरी है।

कोशकार अरविंद कुमार के जीवन के वि‍भि‍न्‍न पहलुओं और कोशकारि‍ता के लि‍ए कि‍ए गए उनके कार्यों को समेटे हुए पुस्‍तक ‘शब्‍दवेध’ एक दस्‍तावेजी और जरूरी    कि‍ताब है। अरविंद जी के जीवन और कर्मयोग के अलावा इस दस्‍तावेजी पुस्‍तक में प्रकाशन उद्योग के वि‍कास और हि‍न्‍दी पत्र-पत्रि‍काओं के उत्‍थान-पतन की झलक भी इसमें मि‍लती है। यह पुस्‍तक नौ संभागों पूर्वपीठि‍का, समांतर सृजन गाथा, तदुपरांत, कोशकारि‍ता, सूचना प्रौद्योगि‍की, हिंदी, अनुवाद, साहि‍त्‍य और सि‍नेमा में बंटी है।

समांतर कोश बना कर हिंदी में क्रांति लाने वाले अरविंद कुमार की यह अपनी तरह की एकमात्र आत्मकथा है। कारण- वह अपने निजी जीवन की बात इस के पहले संभाग पूर्वपीठिका के कुल 21 पन्नोँ मेँ निपटा देते हैं। जन्म से उस दिन तक जब वह माधुरी पत्रिका का संपादक पद त्याग कर दिल्ली चले आए थे और लोग उन्हें पागल कह रहे थे। उन का कहना है, ‘मेरे जीवन मेँ जो कुछ भी उल्लेखनीय है, वह मेरा काम ही है। मेरा निजी जीवन सीधा सादा, सपाट और नीरस है।’ इसके बाद तो  किताब में शब्‍दों के संसार में उनके अनुभवों और योगदान की उत्तरोत्तर विकास कथा है।

समांतर सृजन गाथा और तदुपरांत नाम के दो संभागों में हम पहले तो समांतर कोश की रचना की समस्याओँ और अनोखे निदानोँ से अवगत होते हैं। यह जानते हैं कि कथाकार कमलेश्‍वर द्वारा उसके नामकरण में सहयोग और नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा उसका प्रकाशन कैसे हुआ और उनके अन्य कोशों (समांतर कोश, अरविंद सहज समांतर कोश, शब्देश्‍वरी, अरविंद सहज समांतर कोश, द पेंगुइन इंग्लिश-हिंदी/हिंदी-इंग्लिश थिसारस ऐंड डिक्शनरी, भोजपुरी-हिंदी-इंग्लिश लोकभाषा शब्दकोश, बृहत् समांतर कोश, अरविंद वर्ड पावर: इंग्लिश-हिंदी, अरविंद तुकांत कोश) से परिचित होते हैं। किसी एक आदमी का अकेले अपने दम पर, बिना किसी तरह के अनुदान के इतने सारे थिसारस बना पाना अपने आप मेँ एक रिकॉर्ड है।

कोशकारिता संभाग हमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोश कला के सामाजिक संदर्भ और दायित्व तक ले जाता है। अमर कोश, रोजेट के थिसारस और समांतर कोश का तुलनात्मक अध्ययन पेश करता है।

सूचना प्रौद्योगिकी संभाग में अरविंद बताते हैं कि उन्होंने प्रौद्योगिकी को किस प्रकार हिंदी की सेवा में लगाया। साथ ही वह वैदिक काल से अब तक की कोशकारिता को ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य मेँ पेश करने में सफल होते है। मशीनी अनुवाद की तात्कतालिक आवश्यकता पर बल देते है।

हिंदी संभाग मे वह हिंदी की मानक वर्तनी पर अपना निर्णयात्मक मत तो प्रकट करते ही हैं, साथ ही हिंदी भाषा में बदलावों का वर्णन करने के बाद आंखों देखी हिंदी पत्रकारिता मेँ पिछले सत्तर सालोँ की जानकारी भी देते है।

अनुवाद संभाग मेँ अनुवादकों की मदद के लिए कोशों के स्थान पर थिसारसों की वांछनीयता समझाते हैं। इसके साथ ही गीता के अपने अनुवाद के बहाने संस्कृत भाषा को आज के पाठक तक ले जाने की अपनी सहज विधि दरशाते हैं और ऐसे अनुवादों में वाक्यों को छोटा रखने का समर्थन करते हैं। वह प्रतिपादित करते हैँ कि पाठक के लिए किसी संस्कृत शब्द का अर्थ समझना कठिन नहीँ होता, बल्कि दुरूह वाक्य रचना अर्थ ग्रहण करने मेँ बाधक होती है।

साहित्य संभाग हर साहित्यकार के लिए अनिवार्य अंश है। इंग्लैंड के राजकवि जान ड्राइडन के प्रसिद्ध लेख काव्यानुवाद की कला के हिंदी अनुवाद शामिल कर उन्होंने हिंदी जगत पर उपकार किया हैा ड्राइडन ने जो कसौटियां स्थापित कीं, वे देशकालातीत हैं। ग्रीक और लैटिन महाकवियों को इंग्लिश में अनूदित करते समय ड्राइडन के अपने अनुभवों पर आधारित लंबे वाक्यों और पैराग्राफ़ोँ से भरे इस लेख के अनुवाद द्वारा उन्होँने इंग्लिश और हिंदी भाषाओँ पर अपनी पकड़ सिद्ध कर दी है। यह अनुवाद वही कर सकता था जो न केवल इंग्लिश साहित्य से सुपरिचित हो, बल्कि जिसे विश्व साहित्य की गहरी जानकारी हो।

सिनेमा संभाग की कुल सामग्री पढ़ कर कहा जा सकता है कि यह सब साहित्य संभाग मेँ जाने का अधिकारी था। कोई और फ़िल्म पत्रकार होता तो सिने जगत के चटपटे क़िस्सों का पोथा खोल देता, लेकिन अरविंद यह नहीं करते। जिस तरह उन्होंने माधुरी पत्रिका को उन क़िस्सोँ से दूर रखा, उसी तरह यहाँ भी वह उस सब से अपने आप को दूर रखते हैँ। यहाँ हम पढ़ते हैं जनकवि शैलेंद्र पर एक बेहद मार्मिक संस्मरणात्मक लेख, राज कपूर के साथ उन की पहली शाम के ज़रिए फ़िल्मोँ के सामाजिक पक्ष और दर्शकों की मानसिकता पर पड़ने वाले प्रभाव की चर्चा, फ़िल्म तकनीक के कुछ महत्वपूर्ण गुर।

माधुरी पत्रिका की चर्चा करने के बहाने वह बताते हैँ कि क्यों उन्होँने फ़िल्म वालों से अकेले में मिलना बंद कर दिया- जो बात उजागर होती है, वह पत्रकारिता मेँ छिपा भ्रष्टाचार।

इस संभाग मेँ संकलित लंबा समीक्षात्मक लेख माधुरी का राष्ट्रीय राजमार्ग प्रसिद्ध सामाजिक इतिहासकार रविकांत ने लिखा है,  जो अरविंद जी के संपादन काल वाली माधुरी के सामाजिक दायित्व पर रोशनी डालता है और किस तरह अरविंद जी ने अपनी पत्रिका को कलात्मक फ़िल्मोँ और साहित्य सिनेमा संगम की सेवा मेँ लगा कर भी सफलता हासिल की।

शब्दवेध की अंतिम रचना है प्रमथेश चंद्र बरुआ द्वारा निर्देशित और कुंदन लाल सहगल तथा जमना अभिनीत देवदास का समीक्षात्मक वर्णन। यह एक ऐसी विधा है जो अरविंदजी ने शुरू की और उन के बंद करने के बाद कोई और कर ही नहीँ  पाया।देवदास फ़िल्म का उन का पुनर्कथन अपने आप मेँ साहित्य की एक महान उपलब्धि है। यह फ़िल्म की शौट दर शौट कथा ही नहीँ बताता, उस फ़िल्म के उस सामाजिक पहलू की ओर भी इंगित करता है। देवदास उपन्यास पर बाद मेँ फ़िल्म बनाने वाला कोई निर्देशक यह नहीँ कर पाया। उदाहरणतः ‘पूरी फ़िल्‍म मेँ निर्देशक बरुआ ने रेलगाड़ी का, विभिन्‍न कोणों से लिए गए रेल के चलने के दृश्यों का और उस की आवाज़ का बड़ा सुंदर प्रयोग किया है। पुराने देहाती संस्‍कारों में पले देवदास को पार्वती से दूर ले जाने वाली आधुनिकता और शहर की प्रतीक यह मशीन फ़िल्‍म के अंत तक पहुँचते देवदास की आवारगी, लाचारी और दयनीयता की प्रतीक बन जाती है।

———————–

पुस्‍तक : शब्दवेध: शब्दों के संसार में सत्तर साल– एक कृतित्व कथा
लेखक : अरविंद कुमार
मूल्य रु. 799.00
प्रकाशक: अरविंद लिंग्विस्टिक्स, ई-28 प्रथम तल, कालिंदी कालोनी, नई दिल्ली 110065
संपर्क – मीता लाल. फ़ोन नंबर: 09810016568–ईमेल: lallmeeta@gmail.com

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें

साभार: लेखक मंच

Read all Latest Post on खासखबर khaskhabar in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: %e0%a4%8f%e0%a4%95 %e0%a4%b6%e0%a4%ac%e0%a5%8d%e2%80%8d%e0%a4%a6%e0%a4%af%e0%a5%8b%e0%a4%97%e0%a5%80 %e0%a4%95%e0%a5%80 %e0%a4%86%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e2%80%8d%e0%a4%ae%e0%a4%97%e0%a4%be%e0%a4%a5 in Hindi  | In Category: खासखबर khaskhabar

मिली जुली खासखबर

  1. रेड सैंड बोआ : करोड़ों में है इस सांप की कीमत जानकर रह जाओगे हैरान
  2. भगत सिंह : मैं नास्तिक क्यों हूँ?
  3. नितिन गडकरी और केशव प्रसाद मौर्य के आने से पहले शुरू हुई एनएच 233  राष्ट्रीय राज मार्ग पर सियासत !
  4. सब पर भारी गौतम अडानी की कलाकारी
  5. आम आदमी के शायर थे अदम गोंडवी
  6. स्वामी अग्निवेश की पिटाई : मुसलमानों के बाद अब आर्यसमाजी तो नहीं निशाने पर
  7. भारत के दस हॉन्टेड हाईवे, जहां दिखाई देती हैं लोगों को अजीबोगरीब चीजें
  8. कहीं उतर तो नहीं गया 'जूली' के सर से 'मटूकनाथ' का भूत !
  9. व्हीलचेयर पर भारत भ्रमण करके मिसाल बन गए अरविंद
  10. कभी इंजीनियर, कभी फैशन डिजाइनर और आख़िरकार एसीपी बनकर अपराधियों में खौफ भर दिया इस जांबाज महिला ने
  11. बिना पेड़ काटे, बेकार की चीजों से बनाया शानदार ऊरू
  12. यहाँ पर विधवा का जीवन जीती हैं सुहागन औरतें
  13. एक ऐसा आश्रम जहाँ पत्नी से पीड़ित पुरुष रहते है
  14. अंधविश्वास के चलते रेड सैंड बोआ स्नैक पहुंच गया विलुप्ति की कगार पर
  15. 2017 में शादी के बन्धन में बंधे ये क्रिकेटर
  16. परमवीर जोगिंदर सिंह चीनी सेना भी जिनका आज तक सम्मान करती है
  17. आजादी के दो दीवाने जिनकी दोस्ती थी हिंदु और मुस्लिम एकता की मिसाल
  18. 2017 की वो आपराधिक वारदातें जिनसे दहल गए लोग
  19. ऐसे ही बढ़ता रहा धरती का तापमान तो भारत और पाकिस्तान के करोड़ो लोगो को हो जाएगा खतरा ?
  20. वो बड़ी हस्तियां जिन्होंने 2017 में संसार को अलविदा कह दिया
  21. इस शख्स ने गाँधी को दूध पीने से रोका था
  22. अनजाने में हम सब करते है साइबर क्राइम
  23. हिमाचल में है 550 साल पुरानी प्राकृतिक ममी
  24. जो डर गया समझो मर गया
  25. इन्हें मानते थे हिटलर अपना प्रेरणा स्रोत
  26. पाकिस्तान ही नही भारत में भी इनके उपन्यास ब्लैक में बिका करते थे 
  27. हिंदू पुराणों से मिला था डॉर्विन को विकास वाद का सिद्धांत !
  28. एक रहस्यमय किला जो श्राप के कारण बन गया भूतों का किला
  29. इश्क़ की कोई उम्र नहीं होती
  30. एविएशन इतिहास के बड़े हादसे जिन्होंने बदल दी एविएशन की दुनिया
  31. कंचे और पोस्टकार्ड
  32. अपराधों की लंबी फेहरिस्त है बाबा राम रहीम के नाम
  33. विवादों के बाबा राम रहीम की रहस्यमयी शख्सियत
  34. इन हैकरों के कारनामों ने हिला कर रख दी है दुनिया
  35. प्रेमचंद रायचंद ने किया था बंबई स्टॉक एक्सचेंज में सबसे पहला घोटाला
  36. एडविना माउंटबेटन और जवाहरलाल नेहरू के बीच का रहस्य
  37. भारत में रहती है दुनिया की सबसे बड़ी फैमिली
  38. करीब 150 सालों से प्रिजर्व में रखा है ‘सीरियल किलर’ का सिर
  39. अम्मा अरियन : एक सफल प्रयोग की कहानी
  40. मोदी और ट्रंप की फोटो हो रही हैं सोशल मीडिया पर वायरल
  41. द अल्‍टीमेट उत्‍तराखंड हिमालयन एमटीवी चैलेंज 8 अप्रैल से 16 अप्रैल तक
  42. महाठग अनुभव मित्तल की अनोखी दास्तान: घर बैठे कमाने का लालच देकर ठगे 37 अरब
  43. अल्लाह जिलाई बाई : जिनकी वजह से 'केसरिया बालम' दुनिया को राजस्थान का न्योता बन गया
  44. विश्व में सनातन धर्म को पुन: प्रतिष्ठित करेगा पैगन आंदोलन
  45. देश में सात लाख लोगों के लिए मैला ढोना छोड़ना इतना मुश्किल क्यों है?
  46. सिनेमा के आस्वाद को अंतिम दर्शक तक पहुँचाने की कसरतें 
  47. कुतर्की समय में कुछ तार्किक बातें
  48. रोहितवेमुला के बहाने नागेश्वर राव स्टार की कहानी
  49. बिनबुलाया मेहमान : एंड्रयू हिंटन
  50. मुद्दे ही सेलीब्रेटी होते हैं दस्तावेज़ी सिनेमा में
  51. चाचा भतीजे की खींचतान न पड़ जाए पार्टी पर भारी
  52. बाबूलाल भुइयां की कुरबानी के मायने
  53.  सिनेमा का मजा
  54. भारत में हर साल मामूली बीमारियों से मर जाते हैं पचास हजार बच्चे
  55. दिल्ली के शख्स पर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह की पत्नी ने लगाया ब्लैकमेलिंग का आरोप
  56. दिल्ली विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष चरती लाल गोयल का निधन
  57. बिहार के भागलपुर शहर में चमकती बिजली गिरने से दो की मौत
  58. कृष्णा नदी में डूबने से पांच छात्रों की मौत
  59. बिहार में कुएं से जहरीली गैस के उत्सर्जन से तीन लोगों की मौत
  60. कोंडली में नया सिनेमा
  61. सरहदों के बीच पसरा संगीत
  62. मजदूरों की हड़ताल कोई खबर थोड़ी है !
  63. एक दस्तावेज़ी फ़िल्म के मायने
  64. बड़े परदे पर सिनेमा
  65. एक ईमानदार दृश्य की ताकत
  66. लड़कियों को गहना बताकर सुरक्षा के नाम पर बंदिशें थोपी जाती हैं- प्रियंका चोपड़ा
  67. आने वाले समय में गरीब बच्चों की स्थिति और ज्यादा भयावह होगी
  68. रोशनदान से दिखता घर का सपना
  69. लॉन्ग शॉट का मतलब
  70. कैमरे की ताकत
  71. मथुरा के जमुनापार ने बनाया अपना सिनेमा
  72. मथुरा के महासंग्राम का खौफनाक सच
  73. पारा पहुंचा 50 के पार
  74. 'मोदी को मदरसों को हाथ नहीं लगाने दूंगा'
  75. एक शब्‍दयोगी की आत्‍मगाथा
  76. हिंसक होते बच्चे : अनुराग
  77. अब शब्‍दों का विश्‍व बैंक बनाने की तैयारी : अनुराग
  78. शोध के नाम पर...
  79. पचास साल पहले यूरी गागरिन ने बदली थी दुनिया
  80. बैंक लोन से विजय माल्या ने खरीदा था 9 करोड़ रुपए का घोड़ा!
  81. 'मजार पर औरतों का जाना ही गलत था'
  82. ये हैं स्मार्ट किसान जिन्होंने बिहार को बनाया 'मक्के का मक्का'
  83. सुब्रमण्यम स्वामी सिर्फ राज्यसभा की सीट से संतुष्ट नहीं होने वाले ?

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *