बाबा हरभजन सिंह : मरने के बाद भी कर रहे हैं देश की सीमाओं की पहरेदारी

Baba harbhajan singh temple in sikkim army man in duty after 48 years of his death

Baba harbhajan singh temple in sikkim
army man in duty after 48 years of his death

आज जहाँ राजनीति का मैदान दिल्ली बना हुआ है, और तरह तरह की बयानबाजी करके नेता अपनी देशभक्ति साबित करने की कोशिश करते रहते हैं वहीं दिल्ली से करीब सोलह सौ किलोमीटर दूर भारत के सिक्किम में स्थित नाथूला दर्रा के पास भारत चीन बाडॅर पर एक ऐसी हस्ती है जो देशभक्ति की मिसाल है।

जी हां ! हम बात कर रहे हैं बाबा हरभजन सिंह (Baba Harbhajan Singh) की। जिनका सिक्किम राज्य में नाथूला दर्रा से ठीक 10 किलोमीटर दूर दक्षिण दिशा में तक़रीबन 13 हजार फीट से ज्यादा की ऊंचाई पर बंकर जैसा दिखने वाला एक मंदिर स्थित है, जो की भारत-चीन बोर्डर के पास स्थित है।


मंदिर के अन्दर बाबा हरभजन सिंह के वो सभी साजो-सामान आज भी रखे हैं, जो भारतीय सैनिक होने के कारण एक फौजी के पास होते है । आपको बता दे कि आज भी इस जगह पर उनकी फौजी वर्दी व उनके जूते रखे हुए हैं तथा यहाँ उनकी मौजूदगी को आप आसानी से महसूस कर सकते है ।

यदि भारत-चीन बॉर्डर की सुरक्षा में तैनात भारतीय सैनिकों की बात पर गौर किया जाए तो आज भी बाबा हरभजन सिंह इस बॉर्डर की निगरानी कर रहे हैं और वहां तैनात सैनिकों को आने वाले खतरों के प्रति आगाह कर रहे है । आज भी कई लोग इस नाम से अनजान है, तो आज हम आपको बताते है इस देशभक्त हिंदुस्तान के पहरेदार के बारे में–

जिला गुजरांवाला (वर्तमान पाकिस्तान में) के सदराना गांव में  30 अगस्त 1946 को जन्मे हरभजन सिंह ने सन 1955 में अपनी मैट्रिक तक की शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात सन 1956 में अमृतसर में एक सैनिक के रूप में भारतीय सेना की सिग्नल कोर में शामिल हो गए ।

मान्यतानुसार 30 जून, 1965 के दिन इन्हें कमीशन प्रदान कर 14 राजपूत रेजिमेंट में तैनात कर दिया गया था । वर्ष 1965 के होने वाले भारत-पाक युद्ध में भी इन्होने मुख्य भूमिका निभायी थी, जिसके बाद इनका स्थानांतरण 18 राजपूत रेजिमेंट के लिए कर दिया गया । इतना ही नहीं, यह भी मान्यता है कि भारतीय सेना की पंजाब रेजिमेंट में 9 फरवरी 1966 को एक सिपाही के तौर पर इनकी भर्ती हुयी ।

वर्ष 1968, इनकी तैनाती 23वीं पंजाब रेजिमेंट के साथ पूर्वी सिक्किम में थी । इसी दौरान 4 अक्टूबर 1968 को घोड़ों के काफिले को तुकु ला से डोंगचुई ले जाते समय सैनिक हरभजन सिंह का पैर फिसल गया और ये गहरी खाई में जा गिरे और उनकी मौत हो गई। इस वक़्त उनकी उम्र 22 वर्ष थी ।

बहुत ढुंढने के बावजूद वो नहीं मिले । कई दिन बीत गए । फिर एक दिन सैनिक प्रीतम सिंह, जो हरभजन सिंह के साथी थे, के सपने में वो आये तथा अपनी मृत्यु होने की जानकारी दी तथा उनका शरीर इस वक़्त कहाँ है इसकी जानकारी भी दी । इसके बाद यूनिट ने खोजबीन शुरू कर दी और थोड़ी सी मशकत के बाद उन्होंने हरभजन सिंह का पार्थिव शरीर ढूंढ निकाला । वहां के शरीर के साथ उनकी राइफल भी थी । जगह वहीँ थी जो सपने में प्रीतम सिंह ने देखी थी ।

ऐसा भी कहा जाता है कि बाबा हरभजन सिंह ने अपने साथी सैनिक से समाधि बनाने का अनुरोध भी किया था, जिसके चलते सेना के अधिकारियों ने छोक्या छो नामक स्थान पर उनकी समाधि का निर्माण करवाया था । 11 नवंबर 1982, इस जगह पर एक नए मंदिर का निर्माण करवाया गया ।

Baba Mandir is Located on The Road Between Jelepla and Nathula Pass
Baba Mandir is Located on The Road Between Jelepla and Nathula Pass

सिक्किम की राजधानी गंगटोक से लगभग 52 किमी की दूरी पर नाथुला और जेलेप्ला पास के बीच बाबा हरभजन सिंह मैमोरियल मंदिर का निर्माण किया गया है, जो कि 13,123 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, जहाँ आज भी हरभजन सिंह के जूते और बाकी सैनिक का सामान रखा है । यहाँ तैनात सैनिक हमेशा इन सबकी देखभाल करते है अर्थात भारतीय जवान इस मंदिर की चौकीदारी करते हैं ।

ऐसी मान्यता है कि आज भी भारत-चीन बॉर्डर की निगरानी बाबा हरभजन की आत्मा कर रही है तथा उन्होंने ही  भारतीय सैनिकों को चीन की घुसपैठ के बारे में सतर्क किया था ।


इतना ही नहीं, ये भी कहा जाता है कि आज भी भारतीय सेना के सजग सैनिक के रूप एतौर पर उनकी सेवाओं को जारी रखा हुआ था. कुछ साल पहले ही वह अपने पद से रिटायर हुए हैं. माना जाता है कि बाबा उस जगह की निगरानी आज भी करते है ।

एक अद्भुत बात यह भी है कि बतौर सैनिक बाबा को भी दो महीने का अवकाश दिया जाता है, जिसके चलते जुलूस के रूप में उनकी वर्दी, टोपी, जूते व अन्य सैन्य सामान को सैनिक गाड़ी में नाथुला से न्यू जलपाईगुड़ी रेलवे स्टेशन तथा वहां से डिब्रूगढ़-अमृतसर एक्सप्रेस से जालंधर, पंजाब तक आने के बाद एक विशेष सैन्य गाड़ी से उनका सामान उनके गांव में लाया जाता है तथा अवकाश समाप्त होने के पश्चात उन्हें पुन: नाथूला के पास बने बंकर में तैनात कर दिया जाता है ।

उनकी देशभक्ति, जज्बे और साहस के चलते बाबा हरभजन सिंह को ‘नाथूला का हीरो’ की संज्ञा दी गयी है ।


Read all Latest Post on अजब गजब weird stories in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: baba harbhajan singh temple in sikkim army man in duty after 48 years of his death in Hindi  | In Category: अजब गजब weird stories

Next Post

कंधार विमान अपहरण, हिंदुस्तान को मज़बूरी में छोड़ने पड़े खुंखार आतंकवादी

Sat Sep 14 , 2019
ic814 the story of kandahar plane hijacking in hindi 24 दिसंबर 1999 की शाम काठमांडू से इंडियन एयरलाइंस फ्लाइट संख्या आईसी-814 ने तक़रीबन साढ़े 4 बजे काठमांडू से दिल्ली के लिए उड़ान भरी। 1 घंटा 20 मिनट की इस हवाई यात्रा का 189 पैसेंजर्स में भरपूर लुफ्त उठा रहे थे। […]
ic814 the story of kandahar plane hijacking in hindi

All Post


error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।