Satawar: Satavar farming in profitable business यदि आप कम लागत में ज्यादा मुनाफा चाहते हैं तो औषिधीय पौधों (Medicine plans) की खेती एक अच्छा विकल्प है । आयुर्वेद (ayurveda) ही नही अब एलोपैथ (allopathy) में भी हर्ब्स से निकले केमिकल का प्रयोग किया जाने लगा है, इसी कारण से अचानक […]

मजबूत लकड़ी और छोटी पत्ती वाला शीशम का पेड़ (Sheesham Tree ) भारत के तकरीबन हर हिस्से में पाया जाता है। दमदार लकड़ी होने के बाद भी शीशम (Sheesam) को कारोबारी स्तर पर किसानों (Farmers) द्वारा उगाया नहीं जाता है, क्योंकि इस की बढ़वार धीरे-धीरे होती है। शीशम भारत की […]

खुद किसान को लकड़ी की जरूरत रहती है। इस के लिए उसे बाजार से लकड़ी खरीदनी पड़ती है। अगर किसान अपने खेत में यूकेलिप्टस के पेड़ लगाएं तो वे कई काम एक साथ कर सकते हैं। जंगल कटने और निर्माण उद्योग के तेजी से बढ़ने के कारण इमारती लकड़ी की […]

अधिकांश लोगो का मानना है कि गांव में रहते हुए एक सफल व्यापारी बन पाना बेहद ही मुश्किल है, परिणामस्वरूप लोग गाँव छोड़ शहर की ओर चल देते हैं। यदि बीते ज़माने की बात की जाए तो काफी हद तक यह बात सही मानी जा सकती थी, पर आज के […]

केरल निवासी बीजू अब्राहम ने सीनियर सिटिजन लोगों के लिए एक घर बनवाया है | बीजू ने यह घर गांव के वृद्ध लोगों के लिए हरे-भरे खेतों के बीच में बनवाया है, जो बहुत ही सुंदर है | यह घर 12,000 स्क्वॉयर फीट एरिया में फैला हुआ है। जब बीजू […]

भारत सरकार किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए कई प्रकार की योजनाओं पर कार्य कर रही है तथा किसानो को भी इन योजनाओ की जानकारी होनी चाहिए | इन योजनाओ में प्रमुख सॉयल हेल्थ कार्ड (एसएचसी) योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई (PKSY) योजना आदि है | सॉयल हेल्थ कार्ड (SHC) योजना […]

बचपन से हम पढ़ते आ रहे हैं कि भारत एक कृषि प्रधान देश है। यह एक वाक्य ही सिद्ध करता है कि भारत में खेती की परंपरा हजारों वर्ष पुरानी और काफी समृद्ध है। इतने प्राचीन काल से खेती करने के कारण देश में खेती का जो तौर तरीका विकसित […]

खेत खुद अपनेआप में बड़ी प्रयोगशाला और नई गुंजाइशों से भरा आधार होता है। खेत में की गई एक नई पहल किसी बड़े कारोबार और उद्योग को जन्म दे सकती है। टर्फ घास इस का एक अच्छा उदाहरण है। लाखों घरों के मालिकों, हजारों एथलेटिक मैदानों के प्रबंधकों, लैंडस्कोप डिजाइनरों, […]

भारत में आम की बागवानी 2.34 मिलियन हेक्टेयर रकबे में की जाती है, जिस से 15.80 मिलियन टन आम हासिल होते हैं। देश में आम की औसत पैदावार 7.20 मीट्रिक टन प्रति हेक्टेयर है। दक्षिण भारत की तुलना में उत्तर भारत में आम की पैदावार कम है, जिस के कई […]

पूसा के कृषि विज्ञान मेले में किसानों की मेहनत पर गदगद हो कर कृषि मंत्री शरद पवार ने कहा था कि दुनिया के भूखे लोगों का पेट हमारे किसान भर रहे हैं और यह बात सच भी है। गेहूं, चावल और कपास के मामले में हम ने पिछले 1 दशक […]

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।