भिंडी की वैज्ञानिक खेती

leady finger

सब्जी की खेती में थोड़ी मेहनत ज्यादा है, लेकिन इस में फसल को स्टौक कर के रखने या फिर कीमतों के लिए किसान को इंतजार नहीं करना पड़ता है। आप की फसल अच्छी है और समय पर तैयार हो रही है तो खरीदारों की कमी नहीं है।

सब्जियों में बात भिंडी की करें तो इस की मांग बाजार में खूब रहती है, क्योंकि घर-घर की साधारण सब्जी होने के साथ यह 5 सितारा होटलों की भी शान है। ब्याह शादी वगैरह आयोजनों में भिंडी उसी शौक से पेश की जाती है जितना कि पनीर, भिंडी का इस्तेमाल और कामों में भी होता है।


इस का बीज कागज बनाने के काम में आता है और कुछ दवाओं में भी इस्तेमाल किया जाता है। इस के बीज के पाउडर को मंजन और काॅफी के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इस के तने और जड़ को गुड़ या खांड़ की सफाई के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। भिंडी में विटामिन ए बी और सी भी अच्छी मात्रा में होता है।
भिंडी गरमी व बरसात की मुख्य फसल है। उत्तरी भारत में तो इस की 2 फसलें ली जाती हैं पहली अगेती यानी बसंतकालीन फसल और दूसरी पछेती यानी वर्षाकालीन फसल। इस की खेती उत्तर के पहाड़ी इलाकों की गरम घाटियों, तराई व भावर वाले इलाकों में आराम से की जाती है।

जलवायुः

भिंडी गरम मौसम की फसल होने के कारण इसे लंबा और गरम मौसम चाहिए। कोमल होने के कारण इसे पाले से बहुत नुकसान होता है। भिंडी का बीज 20 डिगरी सेंटीग्रेड के नीचे के तापमान पर नहीं जमता, लगातार बारिश इस फसल के लिए सही नहीं होती है।

खेत की तैयारीः

भिंडी की फसल के लिए सही पानी निकासी वाली बलुई दोमट और दोमट मिट्टी अच्छी होती है। कार्बनिक पदार्थ वाली दोमट मिट्टी जिस का पीएच मान 6-6.8 तक हो, में भिंडी की अच्छी पैदावार ली जा सकती है। जमीन को 3-4 बार जुताई कर के मिट्टी को भुरभुरी कर के तैयार कर लेना चाहिए।

खाद और उर्वरकः

भिंडी की अच्छी पैदावार के लिए 200-250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर गोबर की सड़ी खाद बोआई से पहले खेत में अच्छी तरह मिलानी चाहिए। 100 किलोग्राम नाइट्रोजन, 50 किलोग्राम फास्फोरस और 50 किलोग्राम पोटाश प्रति हेक्टेयर की जरूरत होती है। बोआई के समय आधी नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश की पूरी मात्रा इस्तेमाल करनी चाहिए और बाकी नाइट्रोजन की आधी मात्रा 2 बार में इस्तेमाल करें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें


Read all Latest Post on खेत खलिहान khet khalihan in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: how to good cultivation of lady finger in Hindi  | In Category: खेत खलिहान khet khalihan

Next Post

बीज में छिपा कामयाबी का अंकुर

Sun Jun 12 , 2016
बीज ही किसान की रोटी है, क्योंकि अगर बीज शुद्ध, अच्छी क्वालिटी का होगा तो उसे खेतों से भरपूर पैदावार मिलेगी। हमारी खेती किसानी पर विदेशी कंपनियों और अंतराष्ट्रीय संगठनों का शिकंजा कसता जा रहा है। छोटे, सीमांत व भूमिहीन किसानों के लिए तरक्की के रास्ते बंद से हो रहे […]
Before-sowing-seeds-copy

Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।