आधा घंटे का नियमित व्यायाम दे सकता है दमा रोगियो को राहत

exercise gives ashtma patients reliefs

टोरोंटो। कनाडा में मोंट्रियाल स्थित कोनकोर्डिया यूनिवर्सिटी में प्राध्यापक रहे प्रमुख शोधकर्ता सिमोन बेकन का दावा है कि आधा घंटे प्रतिदिन का हल्की कसरत दमा मरीजों में अभूतपूर्व परिवर्तन ला सकती है और उन्हें दमा से होने वाली समस्याओं में आराम मिल सकता है।

बेकन ने दमे से पीड़ित 643 लोगों पर व्यायाम की आदतों का निरीक्षण किया और उन्होंने अपने अध्ययन में पाया कि जो लोग नियमित रूप से समुचित शारीरिक गतिविधि करते थे, उनमें व्यायाम न करने वालों की तुलना में अस्थमा के लक्षणों पर ढाई गुना अधिक नियंत्रण देखा गया।


बेकन कहते हैं कि आमतौर पर डॉक्टर दमा पीड़ितों को व्यायाम न करने की सलाह देते हैं क्योंकि माना जाता है कि इससे सांस उखड़ने से दमा का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन  सैर और योग जैसे व्यायाम नियमित रूप से 30 मिनट किए जाएं तो दमा (अस्थमा) के लक्षणों में सुधार आ सकता है

बेकन ने कहा, “व्यायाम के कारण इन समस्याओं के बढ़ने की बात सही है, लेकिन अगर आप व्यायाम से पूर्व रिलिवर दवा ‘ब्ल्यू पफर’ लेते हैं और व्यायाम के बाद शरीर को थोड़ा आराम देते हैं तो सब ठीक रहता है।”

बेकन ने कहा, “अगर आपको अस्थमा है तब भी आपको व्यायाम जरूर करना चाहिए। हमारे अध्ययन में पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से वर्ष भर शारीरिक रूप से सक्रिय रहते हैं उन्हें सबसे ज्यादा लाभ मिलता है।”

Read all Latest Post on लाइफस्टाइल lifestyle in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: exercise gives asthma patients reliefs in Hindi  | In Category: लाइफस्टाइल lifestyle

Next Post

मां के मछली खाने से होता है बच्चे का मानसिक विकास

Thu Jun 16 , 2016
टोक्यो| जी हां शोधों से यह जानकारी मिली है कि अगर गर्भावस्था के दौरान महिला पर्याप्त मात्रा में मछली का सेवन करती है तो होने वाली संतान का मस्तिष्क स्वस्थ रहता है। यह अध्ययन जापान के तोहोकु विश्वविद्यालयों के शोधार्थियों ने किया। शोध में पाया गया है कि मस्तिष्क के […]

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।