102 Not Out movie review in hindi : ये जीना भी कोई जीना है लल्लू

102 Not Out movie review You will root for Amitabh Bachchan, Rishi Kapoor and their high spirits

102 not out movie review in hindi

अमर अकबर एंथनी, कुली, कभी कभी, अजूबा और नसीब जैसी बेहतरीन फिल्मों में जोड़ी बनाने वाले ऋषि कपूर और अमिताभ बच्चन एक बार फिर साथ साथ आये हैं, फिल्म का नाम है 102 नॉट आउट। उमेश शुक्ला की यह फिल्म गुजराती नाटक 102 नॉट आउट का हिंदी रुपान्तरण है और उमेश थोडा यही मार खा जाते हैं, क्योंकि कभी 102 नॉट आउट फिल्म सी लगती है तो कभी नाटक सी। अमिताभ की फिल्म मि. नटवरलाल के एक गीत की लाइन इस फिल्म पर पूरी तरह से सार्थक होती है, ये जीना भी कोई जीना है लल्लू। दरअसल यह फिल्म जीने का नया अंदाज़ पेश करती है।

फिल्म की कहानी 102 वर्षीय दत्तात्रेय वखारिया और उनके पुत्र  बाबूलाल, जिसकी उम्र 75 वर्ष है, की है । दोनों एक दूसरे के विपरीत, जहाँ बाबूलाल टाइम का पाबंद है और सेहत को लेकर सजग है तो दूसरी तरफ बाबूलाल के पिता इसके एकदम विपरीत है। कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब दत्तात्रेय कहीं पढता है कि यदि ज्यादा दिनों तक जीना है तो अपने आसपास उदास, बोर लोगों को न रहने दो। जिसका नतीजा यह निकलता है कि दत्तात्रेय अपने 75 वर्षीय बेटे को वृद्धाश्रम भेजने की तैयारी करने लगता है, हालाँकि बेटा इस बात के लिए राजी नहीं होता है। अत: दत्तात्रेय इसका एक हल निकालते हैं। वो कुछ नियम बनाते है और अपने बेटे को उन्हीं नियमों पर चलने के लिए कहते हैं। आखिर ये नियम कौन कौन से है और क्या बाबूलाल इन्हें मानता है, यही फिल्म की कहानी है।


यदि बात अमिताभ बच्चन के अभिनय की करी जाए तो आज भी उन्हें कोई टक्कर देने वाला नहीं है और यहाँ भी दत्तात्रेय के किरदार में वो बाज़ी मार ले जाते हैं, जबकि यह हम सभी जानते हैं कि अभिनय के मामले में ऋषि कपूर भी किसी से कम नहीं है और उन्होंने इस बात को एक बार फिर साबित किया है। फिल्म का विषय बेहद ही अच्छा है और इस विषय से हर उम्र का इंसान खुद को कनेक्ट आसानी से कर लेता है।

फिल्म की कमी है इसकी कमजोर पठकथा। फिल्म का पहला हाफ कमजोर है, जबकि दुसरे हाफ में फिल्म आपका पूरा मनोरंजन करती है। आल इस वेल के बाद उमेश शुक्ला की एक और कमजोर प्रस्तुति इस फिल्म को माना जा सकता है, जबकि उनके पास बॉलीवुड के ऐसे दो रत्न थे जिससे वो अपनी किस्मत चमकाने का काम कर सकते थे, खैर जो हुआ सो हुआ। यदि आप चिंटू उर्फ़ ऋषि कपूर और बिग बी यानी कि अमिताभ बच्चन के फैन है तो यह फिल्म जरुर देखें।

 

102 Not Out Movie Review by KRK | Bollywood Movie Reviews | Latest Reviews

Read all Latest Post on फिल्म समीक्षा movie review in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: 102 not out movie review you will root for amitabh bachchan rishi kapoor and their high spirits in Hindi  | In Category: फिल्म समीक्षा movie review

Next Post

OMERTA' Movie Review In Hindi : उमर सईद शेख की बायोपिक जिसे देखकर आप सिहर जाएंगे

Tue May 8 , 2018
OMERTA’ Movie Review In Hindi ओमर्टा, बॉलीवुड फिल्मों के शौक़ीन लोगों को शायद यह नाम अजीब लगे, ओमर्टा का अर्थ बेहद गंभीर है। दरअसल ओमर्टा एक इटालियन शब्द है, जिसका मतलब होता है ख़ामोशी। जहाँ सेंसर बोर्ड ने फिल्म के रिलीज होने से पहले ही इस फिल्म पर दो दृश्यों […]
Omerta movie review A surprisingly passion-less biopic of Omar Saeed SheikhOmerta movie review A surprisingly passion-less biopic of Omar Saeed Sheikh

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।