Judwaa 2 review : दाल में तडके की कमी

Judwaa 2 Movie Review: Varun Dhawan, Jacqueline Fernandez, Taapsee Pannu Starrer Judwaa 2 review in Hindi

Judwaa 2 Movie Review in Hindi

जब एक ही कहानी को बार बार घुमाया जाए तो उसमे मनोरंजन के नये तडके लगने की आस दर्शको के मन में जागृत होना लाज़मी है | सबसे पहले 1992 में जैकी चैन (Jackie Chan) इस कहानी को लेकर अपने दीवानों के लिए इस फिल्म को लाते है, जिसे साउथ के निर्देशक भारतीय तड़का लगाकर हेल्लो ब्रदर के नाम से लोगो के सामने पेश करते है | 1994 में दक्षिण भारतीय सिनेमा के सिमित होने के कारण फिल्म सिर्फ दक्षिण भारत में ही रह जाती है |

1997 डेविड धवन इस कहानी को दक्षिण भारत के सिनेमा से उठाते है, जैसा वो पहले भी कई बार कर चुके है, और सलमान खान स्टारर जुड़वाँ को भारतीय सिनेमा के सामने लाते है | फिल्म सफलता के झंडे गाद देती है | सुपरहिट हिट गीत संगीत और स्वस्थ हास्य फिल्म की गारंटी बनता है | ऐसे में 2017 में जब एक बार फिर उसी कहानी को दोहराया जाता है तो लोगो की उम्मीदे बढ़ जाती है | मगर जब दर्शक सिनेमा घर से बाहर आते है तो खुद को लूटा हुआ सा महसूस करते है | न तो ये सलमान की जुड़वाँ से बेहतर साबित होती है और न ही फिल्म में कुछ खास है जो फिल्म को मस्ट वाच बनाती हो | हास्य की दाल में मनोरंजन के तडके की कमी साफ़ तौर पर झलकती है |


फिल्म की वही कहानी है जो सलमान की जुड़वाँ की थी | दो भाई, जो बचपन में बिछड़ जाते है, फिर अचानक मिल जाते है | इन भाइयों के बाप का एक पुश्तैनी दुश्मन भी है |  आखिर में दोनों भाई मिल जाते है और अपने बापके दुश्मन का खात्मा कर देते है | मूल रूप से जुड़वाँ 2 (Judwaa 2) की कहानी 90 के दशक की है और कमाल की बात ये है कि 2017 में भी ये 90 के दशक की ही याद दिलाती है, कोई इम्प्रोव्मेंट नही | जो कि फिल्म की पहली कमजोर कड़ी है |

तापसी पन्नू जैसी बेहतरीन कलाकर इस फिल्म में सिर्फ शोपीस नज़र आती है | क्या इस फिल्म को करना तापसी की मज़बूरी थी ? जैकलीन फर्नांडिस हमेशा की तरह परदे पर अपनी खूबसूरती के जलवे बिखेरती नज़र आती है, आखिर उन्हें फिल्मो में रखा भी इसीलिए जाता है | अब बात करते है फिल्म के मुख्य हीरो वरुण धवन की |

वरुण अपनी पिछली कुछ फिल्मो से लोगो का मनोरंजन करने की कोशिश कर रहे है और अपने प्रयास में धीरे धीरे कमजोर होते हुए वो जुड़वाँ 2 जैसी फिल्म कर लेते है | मुझे वरुण की पिछली फिल्म बद्रीनाथ की दुल्हियाँ भी कुछ खास नही लगी मगर जुड़वाँ 2 (Judwaa 2)   उससे भी पीछे है | सचिन खेडेकर, प्राची देसाई, जाकिर हुसैन, राजपाल यादव, जोनी लिवर, अनुपम खेर, अली असगर, पवन मल्होत्रा और विवान भटेना जैसे कलाकर होने के बावजूद फिल्म में किसी की भी एक्टिंग प्रभावित नही करती | न ही तो हास्य दृश्यों पर हँसना आता है और न ही इमोशनल दृश्यों पर भावुकता |

Judwaa 2 Movie Public Review | Varun Dhawan | First Day First Show | Judwaa 2 Movie Review

 

 

 

Read all Latest Post on फिल्म समीक्षा movie review in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: judwaa 2 movie review in hindi in Hindi  | In Category: फिल्म समीक्षा movie review

Next Post

Bhoomi movie review : सिर्फ और सिर्फ संजय दत्त  

Fri Oct 6 , 2017
Bhoomi movie review in hindi 2016 में जेल से रिहाई के बाद फिर एक बार संजय दत्त किसी फिल्म में मुख्य भूमिका में आ रहे है, फिल्म का नाम है भूमि (Bhoomi), जिसका निर्देशन ओमंग कुमार ने किया है | फैन्स के लिए सच में संजय दत्त की एक परफेक्ट […]
Bhoomi movie review: Sanjay Dutt film wants to be a feminist’s pride without giving up on cliches | movie reviews

All Post


Leave a Reply