RAW-romeo akbar walter Movie review in hindi : रोमियो अकबर वाल्टर, जासूसी दुनिया की सैर

RAW-romeo akbar walter Movie review : रोमियो अकबर वाल्टर, जासूसी दुनिया की सैर

RAW-romeo akbar walter Movie review in hindi

मद्रास कैफे (Madrash cafe) और परमाणु (Parmanu movie) के बाद एक बार फिर जॉन अब्राहम (John abraham) देशभक्ति से भरी थ्रिलर फिल्म (RAW) Romeo akbar walter Movie दर्शकों के बीच लेकर आये हैं। जॉन अब्राहम (John abraham) , मौनी रॉय (Mouni roy), सिकंदर खेर ( Sikandar kher), सुचित्रा कृष्णामूर्ति (Suchitra krishnamoorthi) और जैकी श्रॉफ (Jackie shroff) जैसे कलाकारों से सजी इस फिल्म का निर्देशन रॉबी ग्रेवाल (Robby grewal) ने किया है। फिल्म बेहद गंभीर विषय पर बनी हुई है।

(RAW) Romeo akbar walter Movie फिल्म की कहानी 1971 से शुरू होती है जहाँ बैंकर रहमत अली अक्का रोमियो की कहानी शुरू होती है। उसके पिता आर्मी ऑफिसर हैं इसके बावजूद उसकी मां चाहती हैं कि रोमियो एक आम आदमी की लाइफ जिए। रॉ चीफ श्रीकांत राय रोमियो को RAW से जुड़ने के लिए अप्रोच करते हैं और थोड़ी सी ना-नुकुर के बाद वो तैयार जाता है। उसे एक खास मिशन के लिए पाकिस्तान (Pakistan) भेजा जाता है, जहाँ उसे एक नया नाम दिया जाता है अकबर मलिक । यहाँ अकबर की मुलाकात आइसाक अफरीदी से होती है, जो कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (Kashmir) के शक्तिशाली हथियार व्यापारी है। अकबर उसका विश्वास जीतने में सफल हो जाता है पर इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस एजेंट कर्नल खुदाबख्श खान को अकबर खटकता है । क्या खान अकबर को पकड़ लेता है या अकबर अपने मिशन में कामयाब होता है यही फिल्म का क्लाइमैक्स है।


डायरेक्टर रॉबी ग्रेवाल (Robby grewal) ने एक अच्छी कोशिश की है मगर जासूसी का यह सफ़र और बेहतर हो सकता था। फिल्म का सबसे बड़ा नेगेटिव पॉइंट यह है कि कई ट्विस्ट और टर्न व इमोशनल दृश्य होने के बावजूद दर्शक खुद को फिल्म के साथ इमोशनली कनेक्ट नहीं कर पाते, नतीजन रोमांचक कहानी नीरसता की भेंट चढ़ जाती है । फिल्म की एडिटिंग पर और ध्यान दिया जाता तो फिल्म और मजेदार बन सकती थी । फिल्म का फर्स्ट हाफ बहुत धीमा है। रॉबी ग्रेवाल ने फिल्म को लेकर बहुत ही डिटेल रिसर्च की है, उनकी डिटेलिंग पर्दे पर नजर भी आती है।

तपन तुषार बसु की सिनेमटॉग्रफी (Cinematography) लाजवाब है। जॉन अब्राहम अपनी भूमिका में हर तरह से उपयुक्त हैं, परन्तु मोनी रॉय को खुद को निखारने की जरुरत है, गोल्ड के बाद वो एक बार और थकी हुयी और नीरस नज़र आती हैं। हाल ही में रिलीज मिलन टॉकीज से कमबैक करने वाले सिकंदर ख़ैर इस फिल्म में अपने अभिनय से चौकाते हैं। जैकी श्रॉफ और अनिल जॉर्ज अपने किरदार के साथ न्याय करते हैं।

RAW – Romeo Akbar Walter Movie Review video | Robbie Grewal | John Abraham

Read all Latest Post on फिल्म समीक्षा movie_review in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: raw romeo akbar walter movie review in Hindi  | In Category: फिल्म समीक्षा movie_review

Next Post

विदाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी | vidaa ji premchand story

Sun Apr 7 , 2019
दूसरे दिन बालाजी स्थान-स्थान से निवृत होकर राजा धर्मसिंह की प्रतीक्षा करने लगे। आज राजघाट पर एक विशाल गोशाला का शिलारोपण होने वाला था, नगर की हाट-बाट और वीथियाँ मुस्काराती हुई जान पड़ती थी। सडृक के दोनों पार्श्व में झण्डे और झणियाँ लहरा रही थीं। गृहद्वार फूलों की माला पहिने […]
विदाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी | vidaa ji premchand storyविदाई – मुंशी प्रेमचंद की कहानी | vidaa ji premchand story

Leave a Reply