• 50 से अधिक लोगों की मौजदूगी वाले सभी तरह के समारोह पर रोक
  • रोक शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर प्रदर्शन पर भी लागू
  • राजधानी में कोविड-19 से संक्रमित सात में से चार लोगों का इलाज जारी
  • जेएनयू प्रशासन ने छात्रों से हॉस्टल खाली करने को कहा
  • साउथ एमसीडी के इलाके में आज से नाइट क्लब और जिम बंद
  • कॉलोनियों में लगने वाले साप्ताहिक बाजार पर रोक

नई दिल्ली, 16 मार्च (एजेंसी)। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को घोषणा की कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों की मौजूदगी वाले धार्मिक, पारिवारिक, सामाजिक, राजनीतिक या सांस्कृतिक कार्यक्रमों को अनुमति नहीं होगी। शहर में सभी साप्ताहिक बाजारों पर रोक लगा दी गई है और सभी शॉपिंग मॉल को निर्देश दिये गये हैं कि वे प्रवेशद्वार और स्टोर में सैनीटाइजर मुहैया करायें।

मुख्यमंत्री ने यह भी संकेत दिया कि सभाओं पर रोक शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर प्रदर्शन पर भी लागू होगी। इन स्थानों पर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर पिछले करीब 90 दिनों से कुछ लोग धरने पर बैठे हैं। केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जिम, नाइट क्लब और स्पा 31 मार्च तक बंद रहेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘31 मार्च तक दिल्ली में 50 से अधिक लोगों की मौजूदगी वाले धार्मिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को अनुमति नहीं होगी। यह रोक प्रदर्शनों पर भी लागू होगी।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या रोक के दायरे में शाहीन बाग का प्रदर्शन भी आएगा, आप नेता ने कहा, ‘‘यह (रोक) सभी पर लागू होगी, चाहे वह प्रदर्शन हो या सभा।’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि यद्यपि विवाह पर कोई पाबंदी नहीं है लेकिन लोगों को तिथियां टालने की सलाह दी जाती है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सभी ऑटोरिक्शा और टैक्सियों को मुफ्त में संक्रमण मुक्त किया जाएगा। केजरीवाल ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 से संक्रमित सात में से चार लोगों का इलाज जारी है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘जरूरत पड़ने पर पर्याप्त बिस्तरों का बंदोबस्त है।

तीन होटलों लेमन ट्री, रेड फॉक्स और आईबीआईएस में लोगों को पृथक रखे जाने की व्यवस्था की गई है। ’’ दिल्ली सरकार ने शहर में सिनेमाघरों, स्कूलों, विश्वविद्यालयों और सभी स्विमिंग पूल 31 मार्च तक बंद रखने का पिछले सप्ताह आदेश दिया था। केजरीवाल ने कहा कि सरकार केंद्र के दिशानिर्देश लागू कर रही है और उसके साथ समन्वय में काम कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘जहां भी जरूरी है हम लोगों को पृथक रख रहे हैं। बड़े पैमाने पर अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत उत्पन्न होने की स्थिति में हमने पर्याप्त व्यवस्था की है जिसमें 500 बिस्तरों की व्यवस्था करना शामिल है। हालांकि अभी उनकी कोई जरूरत नहीं है।

मरीजों के साथ सम्पर्क में आये लोगों को पृथक रखा गया है। मैं लोगों से अपील करता हूं कि घर पर पृथक रखे गए लोग नियमों का पालन करें।’’ दिल्ली नगर निगम के आयुक्तों एवं एसडीएम को सार्वजनिक स्थानों पर सचल वाशबेसिन का इंतजाम करने के निर्देश दिये गए हैं। इटली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की आशंका पर केजरीवाल ने कहा, ‘‘हम अन्य देशों से केवल सीख ले सकते हैं। इटली में (ऐसे मामलों) में वृद्धि देखी गई है।

हालांकि भारत में सामुदायिक संक्रमण शुरू नहीं हुआ है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने स्पेन और फ्रांस के उन यात्रियों की साफ सफाई को लेकर शिकायतों पर ध्यान दिया हैं जिन्हें द्वारका में पृथक इकाई में रखा गया है। एक सवाल के जवाब में केजरीवाल ने कहा कि सरकार इसकी पड़ताल करेगी कि क्या दिल्ली मेट्रो में भी कोरोना वायरस की थर्मल स्क्रीनिंग की जा सकती है।

 जेएनयू प्रशासन ने छात्रों से हॉस्टल खाली करने को कहा

देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक अहम फैसला लिया, जिसके तहत हॉस्टल में रह रहे सभी छात्रों को हॉस्टल खाली कर घर लौट जाने के लिए कहा है। इसके अलावा कॉलेज में होने वाली अन्य गतिविधियां जैसे सेमिनार, संस्कृतिक कार्यक्रम, वर्कशॉप, मीटिंग आदि भी स्थगित कर दी गई है। बता दें कि जेएनयू प्रशासन ने छात्रावास में रह रहे सभी छात्रों को जल्द से जल्द घर वापस जाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही कहा गया है कि केवल कुछ हॉस्टल में मेस की मूलभूत सुविधाएं उन छात्रों के लिए उपलब्ध कराई जाएंगी जो विदेशी छात्र हैं या किन्ही कारणों के चलते हॉस्टल में रुकने के लिए मजबूर हैं। इसके अलावा प्रशासन ने निर्देश दिया है कि जो भी छात्र हॉस्टल में रुके हुए हैं वह ना ही बाहर से खाना ऑर्डर करेंगे और ना ही किसी बाहरी व्यक्ति को हॉस्टल में लेकर आएंगे। इसके अलावा हॉस्टल में किसी भी तरह की पार्टी या इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।   किया है कि सभी प्रशासनिक कार्य पहले की तरह होते रहेंगे स्टाफ और शिक्षकों के लिए कॉलेज पहले की तरह ही कार्यरत रहेगा।

 साउथ एमसीडी के इलाके में आज से नाइट क्लब और जिम बंद

कोरोना का कहर को देखते हुए साउथ एमसीडी के इलाके में आज से सभी नाइट क्लब, जिम और स्विमिंग पूल आदि को बंद कर दिया गया है। निगम ने इलाके में 100 आइसोलेटेड बेड्स का इंतजाम किसी विशेष परिस्थिति के लिए पहले ही किया हुआ है। वहीं सफाई कर्मचारियों को बचाव के लिए मास्क बांटे जा रहे हैं। सोमवार को साउथ एमसीडी में नेता सदन कमलजीत सहरावत ने कहा कि इस महामारी का एकमात्र इलाज बचाव है। दिल्ली की जिम्मेदार एजेंसी होने के नाते यहां निगम कर्मचारियों से लेकर अधिकारियों और नेताओं तक को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां दी गई हैं। नाइट क्लब और जिम आदि में बड़ी संख्या में लोग आते हैं, आपसी तालमेल से कोरोना का संक्रमण न फैले इसके लिए सभी जगहों को अस्थाई तौर पर बंद करने का फैसला किया गया है।

कॉलोनियों में लगने वाले साप्ताहिक बाजार पर रोक

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने अलग-अलग इलाकों में लगने वाले साप्ताहिक बाजार को 31 मार्च तक के लिए बंद करने का आदेश जारी किया है। दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में साप्ताहिक दिन के अनुसार शाम से लेकर रात 11 बजे तक बाजार लगता है। जिसमें घर की जरूरतों के सामानों के साथ-साथ फल, सब्जियां भी लोग खरीदते हैं। इन बाजारों में काफी भीड़भाड़ होती है। इन बाजारों के लगने पर प्रतिबंध इसलिए लगाया गया, क्योंकि इसमें भीड़ काफी होती है। संक्रमण फैलने का खतरा अधिक होता है। इसलिए एहतियातन 31 मार्च तक इन बाजारों को बंद करने का फैसला लिया गया है।

चिड़ियाघर में विदेशी पर्यटकों पर लग सकती है रोक

कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए जहां एक तरफ दिल्ली सरकार ने सभी स्कूलों, कॉलेजों और सिनेमाघरों को 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिया है। वहीं चिड़ियाघर प्रशासन भी चिड़ियाघर में विदेशी पर्यटकों की इंट्री पर रोक लगाने पर विचार कर रहा है। वहीं अब चिड़ियाघर प्रशासन भी चिड़ियाघर में विदेशी पर्यटकों के एंट्री पर रोक लगाने की तैयारी कर रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चिड़ियाघर में काफी संख्या में विदेशी सैलानी भी घूमने के लिए आते हैं और वहां कोरोना के फैलने का खतरा ज्यादा बना रहता है। इसी को ध्यान में रखते हुए चिड़ियाघर प्रशासन चिड़ियाघर में एहतियातन विदेशी पर्यटकों पर रोक लगाने की तैयारी कर रहा है।

नवरात्र पर भी कोरोना का साया

राजधानी में कोरोना वायरस का कहर जारी है। इसी बीच 25 मार्च को नवरात्रों की शुरुआत हो रही है। ऐसे में दिल्ली सरकार की तरफ से भी लगातार अपील की जा रही है कि लोग कोरोना वायरस को लेकर सतर्क रहें और जो सावधानियां हैं उन्हें बरते। दिल्ली सरकार की तरफ से कहा गया है कि अब किसी भी कार्यक्रम में 50 से ज्यादा लोग एकत्रित ना हो और जो भी कार्यक्रम है वह 31 मार्च तक रद्द किए जाएं। 25 मार्च से शुरू हो रहे नवरात्रों के लिए भी मंदिरों में तैयारियां शुरू हो गई हैं। वही कोरोना वायरस को लेकर भी साफ-सफाई का काम लगातार किया जा रहा है। इसके साथ ही मंदिर प्रशासन की तरफ से ही लोगों से कोरोना वायरस को लेकर सतर्क रहने की अपील की गई है।

सफदरजंग अस्पताल से एक और कोरोना संक्रमित शख्स को मिली छुट्टी

चीन से फैले कोरोना वायरस ने देश की राजधानी दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की जान ले ली। तो वहीं सफदरजंग अस्पताल से लगातार अच्छी खबरें भी सामने आ रही है। दरअसल, अस्पताल में 6 मरीजों को पहले ही डिस्चार्ज कर दिया गया था, अब एक और संक्रमित व्यक्ति को डिस्चार्ज किया गया है। बता दें कि राजधानी दिल्ली में उत्तम नगर के रहने वाले शख्स को 6 मार्च को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में 14 दिन तक उन्हें आइसोलेशन वार्ड रखा गया। वे विदेश यात्रा कर भारत लौटे थे। जिसके बाद उनमें संक्रमण पाया गया था। वह दिल्ली के तीसरे पॉजिटिव केस थे। वहीं दिल्ली के मयूर विहार में रहने वाले रोहित दत्ता को भी सफदरजंग अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था। दिल्ली सरकार के हेल्थ डिपार्टमेंट से मिली जानकारी के अनुसार, उत्तम नगर के रहने वाले मरीज के संपर्क में 434 लोगों की पहचान की गई थी। जिसमें से 69 लोग दिल्ली से बाहर के हैं। इसमें डॉक्टरों से 8 का सैंपल लिया गया है। हालांकि अभी उनकी रिपोर्ट आना बाकी है। फिलहाल डॉक्टरों में भी इस बात की खुशी है कि जिस तरीके से उनको 14 दिन तक आइसोलेशन वार्ड में रखकर उपचार किया गया, उसके बाद अब मरीजों की हालत में सुधार हो रहा है।

डीयू में 31 मार्च तक लाइब्रेरी बंद

दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन ने 31 मार्च तक छात्रों के लिए पुस्तकालय बंद करने का फैसला किया है। 12 मार्च को विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से एहतियात के तौर पर 31 मार्च तक रेगुलर क्लास जिसमें कॉलेज डिपार्टमेंट सेंटर पर बंद करने का फैसला किया गया था। दिल्ली विश्वविद्यालय के कार्यवाहक रजिस्ट्रार पीआर राघव ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए 31 मार्च तक विश्वविद्यालय की पुस्तकालय को बंद करने का फैसला किया गया है। इस दौरान विश्वविद्यालय में डिपार्टमेंट, कॉलेज और सेंटर पर रेगुलर क्लास 31 मार्च तक नहीं होगी। इसके अलावा उन्होंने कहा कि शिक्षक फिलहाल अपना काम घर से भी कर सकते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि जो शिक्षक रिसर्च कर रहे हैं इन दिनों में उसे वो पूरा कर स्कोपस इंडेक्स जनरल में पब्लिश कर सकते हैं।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें