• छूट देने के बावजूद समस्या इलेक्ट्रिशियन और प्लंबरनहीं कर पा रहे है काम

  • हार्डवेयर की दुकानें ने खुलने की वजह से समस्या

  • घरेलू उपकरण तक नहीं करवा पा रहे है ठीक

  • प्रवासी मैकेनिक लौटने लगे है अपने गाँव

नई दिल्ली, 26 अप्रैल (एजेंसी)। सरकार ने लॉकडाउन की बढ़ी हुई अवधि में भले ही इलेक्ट्रिशियन, प्लंबर और अन्य मिस्त्रियों को भले ही घर आकर रिपेयर करने की छूट दे दी हो परन्तु इसके बावजूद लोगों का रिपेयर का काम नहीं हो पा रहा हैं। जिसका प्रमुख कारण है रिपेयरिंग के लिए स्पेयर पार्ट का न मिल पाना, जिसके चलते एक सवाल सामने आने आ गया है कि आखिर ऐसे में रिपेयर कैसे करे। एक नहीं दिल्ली-एनसीआर में ऐसे कई मामले सामने आ चुके है जब इलेक्ट्रिशियन और प्लंबर की मौजूदगी के बाद भी पेयर का काम नहीं हो पाया । इतना ही नहीं घरेलु उपकरण को ठीक कराने में भी आ रही है समस्या ।

हार्डवेयर की दुकानें ने खुलने की वजह से समस्या

दिल्ली-एनसीआर के वसुंधरा में रहने वाले गगन कुमार सिंह के घर में पिछले 20 दिनों से नल में लीकेज है, लेकिन वह इसे ठीक नहीं करवा पा रहे हैं। जब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आदेश निकाला था कि 20 अप्रैल से घर आकर इलेक्ट्रिशियन या प्लंबर सामानों को ठीक करेंगे तो उन्हें आस बंधी थी कि लीकेज बंद हो जाएगा। लेकिन पिछले दिनों जब उन्होंने प्लंबर को कॉल किया तो उन्होंने आने में असमर्थता व्यक्त की। प्लंबर का कहना है कि उनका औजार तो हार्डवेयर की दुकान में रहता है और हार्डवेयर की दुकानें खुल नहीं रही हैं। ऐसे में वह अपना औजार ला नहीं पाएंगे और बिना औजार उनके घर का काम नहीं होगा।

इसके बाद गगन कुमार सिंह ने एक और प्लंबर को फोन किया वह उनके घर तक आए और लीकेज का मुआयना किया। उसके बाद प्लंबर ने बताया कि लीकेज को बंद करने के लिए जिस सामान की जरूरत होगी वह उसके पास है नहीं और इस समय हार्डवेयर की दुकान बंद है। इसलिए लॉक डाउन करने के बाद ही नल का लीकेज बंद होगा। ऐसी हालत में उनकी परेशानी कम नहीं हुई है और दिन भर में दो-तीन बार उन्हें टंकी भरना पड़ता है, क्योंकि लीकेज की वजह से टंकी का सारा पानी निकल जाता है।

घरेलू उपकरण तक नहीं करवा पा रहे है ठीक

इंदिरापुरम में रहने वाली सुषमा नाथ का मिक्सी पिछले कुछ दिनों से खराब है। उन्होंने जब मैकेनिक को फोन किया तो पहले तो उसने आने में आनाकानी की। लेकिन जब उन्हें दोगुने मेहनताने का ऑफर किया गया तो वह आया। लेकिन उसका आना सफल नहीं हुआ। मैकेनिक ने बताया कि उनकी विदेशी मिक्सी का बुश खराब हो गया है, इसे बदलना होगा और उनकी मिक्सी में जो बुश लगेगा वह उनके पास है नहीं। अब लॉक डाउन खुलेगा तो फिर उनका बुश मिल पाएगा। इसी तरह से जिनकी वाशिंग मशीन या कोई अन्य घरेलू उपकरण खराब है, वह भी ठीक नहीं हो पा रहा है। क्योंकि स्पेयर पार्ट्स की दुकानें बंद हैं।

प्रवासी मैकेनिक लौटने लगे है अपने गाँव

वसुंधरा में ही इलेक्ट्रिकल सामानों की दुकान तिवारी इलेक्ट्रिकल के प्रोपराइटर का कहना है कि उनके यहां पहले 2-3 इलेक्ट्रिशियन रहते थे जो कॉल आने पर ग्राहकों के घर जाकर स्विच, बोर्ड, पंखा आदि ठीक करते थे या बदलते थे। जब से लॉक डाउन शुरू हुआ, उसके बाद उनके यह कारीगर अपने गांव लौट गए। अब जब लॉकडाउन खुलेगा तभी वह वापस आएंगे और जिनका जो सामान खराब हुआ है वह ठीक हो पाएगा।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें