आम बोलचाल में जिसे शेयर या स्टॉक कहा जाता है वह असल में इक्विटी शेयर होता है। किसी कंपनी के कुल मूल्य का विभाजन कर बनाई गई सबसे छोटी इकाई को इक्विटी शेयर कहते हैं। इससे किसी कंपनी में एक अंश की हिस्सेदारी व्यक्त होती है। किसी कंपनी का इक्विटी […]

सीने में जलन, आंखों में तूफान सा क्यों है इस शहर में हर शख्स परेशान क्यों है। किसी शायर की ये मशहूर पंक्तियां महानगरों की जिंदगी का एक कड़वा अक्स प्रस्तुत करती हैं , दरअसल, तेज भागदौड़ वाली जिंदगी में लोग ऐसे पिस गए हैं कि वे इससे तालमेल नहीं […]

बढ़ती अर्थव्यवस्था के बूते भारत में हाई नेटवर्थ इंडिविजुअल (एचएनआई) की संख्या और साथ ही साथ उनके निवेश में अच्छा खासा इजाफा हुआ है। किसी आम निवेशक की तरह एचएनआई भी रियल इस्टेट, शेयर, कमोडिटी, आर्ट, मुद्राएं एवं म्यूचुअल फंड आदि में निवेश करते हैं। हांलाकि उनको तुलनात्मक रूप से […]

जमाना अब काफी हाईटेक हो गया है। हर क्षेत्र में ऑनलाइन सेवाओं की बढ़ोत्तरी हो रही है। समय एवं धन की बचत के लिए ऑनलाइन सेवाओं पर काफी जोर दिया जा रहा है। इस मामले में भारतीय डाक विभाग भी पीछे नहीं है। ग्राहकों की सहूलियत एवं सेवाओं में पारदर्शिता […]

12 अप्रैल 1961, कजाकस्तान के बायकोनूर अंतरिक्ष स्टेशन पर अनजाने भय और आशंकाओं के बीच मानव अंतरिक्ष के गहन अज्ञात में पहला कदम रखने जा रहा था। ऐसे में अपने अंतरिक्षयान वोस्तोक-1 में बैठने से पहले यूरी गागरिन ने दुनिया भर के लोगों के नाम ये संदेश रिकार्ड करवाया था। […]

सागर सरहदी उर्दू के मशहूर कथाकार हैं। वे फिल्म पटकथाकार, संवाद लेखक निर्देशक और नाटककार सभी कुछ हैं। उन्होंने कई मशहूर फिल्में लिखीं हैं। अनुभव, कभी कभी, सिलसिला आदि। कई फिल्में बनाई भी हैं। कुछ चलीं हैं, कुछ नहीं चलीं। इस अलबेले फिल्मकार से शरद दत्त की खास मुलाकात सबसे […]

दुश्मन के इलाके में घुसकर घात लगाना हो, या आतंकवादी हमलों के वक्त अपनी जान जोखिम में डालकर आम जनमानस के जान और माल की रक्षा करना कमांडो हर मौके पर हर वक्त तैयार रहते हैं। अभी कुछ सालों पूर्व मुंबई हमलों के दौरान कई कमांडों ने अपनी जान को […]

आज जब एक ही जॉब के लिए हजारों लोगों की लाइन होती है ऐसे में माहौल बहुत प्रतिस्पर्धा से भरा है। कई बार कंपनी सिर्फ रेज्युमे के आधार पर ही लोगों को इंटरव्यू के लिए कॉल करती हैं, और काफी लोगों को सिर्फ रेज्युमे देखकर ही रिजेक्ट कर दिया जाता […]

ग्‍लोबिश, ग्‍लोबल और इंगलिश शब्‍द का कॉम्बिनेशन है। यह इंगलिश का वह वर्जन है, जिसमें इंगलिश लैंग्‍वेज के सबसे ज्‍यादा कॉमन कुछ लिमिटेड वर्ड ही यूज किए जाते हैं। ऐसे वर्ड्स की संख्‍या करीब 1500 है। इन बेसिक वर्ड्स के कारण इसे समझना काफी आसान है। इनकी खास स्‍पेलिंग और […]

विगत कुछ वर्षों से देश में न्यूज चैनल्स की बाढ‍़ सी आ गई है, और इनकी बढ‍़ती संख्या के मद‍्देनजर इस प्रोफेशन में काम करने वाले लोगों की मांग भी दिन पर दिन बढ‍़ती जा रही है। इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े ग्‍लैमर के कारण युवा इस फील्‍ड की ओर तेजी […]