• आंदोलन को समर्थन देने के लिए किसानों ने नया तरीका अपनाया
  • विवाह के निमंत्रण पत्र पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगत सिंह का चित्र छपवाया
  • प्रेस के मालिक ने कहा, “बहुत से किसान परिवार और अन्य लोग शादी के ………

कैथल (हरियाणा), 05 फरवरी (एजेंसी)। कृषि कानूनों के विरुद्ध चल रहे आंदोलन को समर्थन देने के लिए हरियाणा के कुछ किसानों ने नया तरीका अपनाया है जिसके तहत शादी के निमंत्रण पत्र पर “किसान नहीं तो अन्न नहीं” जैसे नारे और किसान नेता सर छोटू राम की तस्वीर छपवायी जा रही है। यहां एक प्रिंटिंग प्रेस के मालिक के अनुसार, विवाह के निमंत्रण पत्र पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगत सिंह का चित्र भी छपवाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : मैडम मैरी क्यूरी  Interesting facts about madame curie in hindi

प्रेस के मालिक ने कहा, “बहुत से किसान परिवार और अन्य लोग शादी के निमंत्रण पत्र पर ‘किसान नहीं तो अन्न नहीं’ जैसे नारे छापने और सर छोटू राम तथा भगत सिंह के चित्र लगाने का अनुरोध कर रहे हैं।”सर छोटू राम का जन्म 24 नवंबर 1881 को हुआ था और उन्हें किसानों का मसीहा माना जाता है।ब्रिटिश शासनकाल में किसानों को सशक्त करने में उनकी अहम भूमिका थी।

यह भी पढ़ें : ममता – मुंशी प्रेमचंद की कहानी | Mamta premchand hindi story

यहां स्थित ढूंढरेहड़ी गांव के किसान प्रेम सिंह गोयत उन लोगों में से एक हैं जिन्होंने अपने बेटे की शादी के निमंत्रण पत्र पर किसानों के समर्थन में नारा छपवाया है। गोयत ने कहा, “इन कानूनों के विरुद्ध हजारों किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और हम उनके समर्थन में खड़े हैं। मेरे बेटे की 20 फरवरी को शादी होने वाली है और मुझे लगा कि क्यों न हम निमंत्रण पत्र पर सर छोटू राम और शहीद भगत सिंह के चित्र छपवाएं।”

यह भी पढ़ें : मुंशी प्रेमचंद की कहानी: कातिल | Munshi premchand ki kahani Qatil

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें