धर्म कर्म फोटो गैलरी

भगवान शिव ने जब रखा नटराज रूप

धार्मिक पुराणोंनुसार के अनुसार जब सृष्टि की रचना हुयी तो ब्रह्मनाद से शिव प्रकट हुए तो उनके साथ सत, रज और तम गुणों का भी जन्म हुआ, जो शिव के तीन शूल यानी त्रिशूल कहलाए। मगर क्या आप जानते हैं कि भगवान शिव दो तरह से तांडव नृत्य करते हैं। जब भगवान शिव क्रोधित अवस्था में होते है तो वो बिना डमरू के तांडव नृत्य करते हैं, जबकि दूसरे तांडव नृत्य के दौरान वो डमरू भी बजाते हैं तथा उस समय प्रकृति में आनंद की बारिश होती है । यहीं वो समय होता है जब शिव परम आनंद से परिपूर्ण होते हैं। मगर आपको बता दे कि जब भगवान शिव शांत समाधि में होते हैं तो वो नाद करते हैं। आपको ये भी बता दे कि  ॐ की ध्वनि को ही नाद कहा जाता है तथा पुराणों के अनुसार ॐ से ही भगवान शिव का जन्म हुआ है। पढ़िए भगवान शंकर जी की आरती।

shiva natraj avtar according to skandpuran - शिव को इस कारण धारण करना पड़ा था नटराज रूप, स्कंदपुराण में वर्णित है कहानी
shiva natraj avtar according to skandpuran - शिव को इस कारण धारण करना पड़ा था नटराज रूप, स्कंदपुराण में वर्णित है कहानी

अब जानते है कि भगवान शिव ने क्यों धरा नटराज का रूप। स्कन्दपुराण के अनुसार एक बार वनों में रहने वाले साधुओं को अपने तपोबल पर अहंकार हो गया, जिसके चलते उन्होंने साधारण मनुष्य को तुच्छ समझना शुरू कर दिया। भगवान शिव को जब साधुओं के अहंकार की जानकारी मिली तो उन्होंने साधुओं के अहंकार को तोड़ने की ठान ली। भगवान शिव ने भिखारी का रूप धरा और वन में टहलना शुरू कर दिया। भगवान शंकर के सोलह सोमवार के व्रत विस्तार से पढ़िए

God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev
God of Dance Natraj, Mahadev

जब भगवान शिव साधुओं के निवास स्थान के सामने से गुज़र रहे थे तो उन्होंने पाया कि वहां मौजूद साधु जीवों के निर्माण और श्रेष्ठ जीव पर चर्चा कर रहे थे तथा उनमे श्रेष्ठ होने की मानसिकता ने जन्म ले लिया था। बात इतनी बढ़ गयी थी कि साधुओं ने भगवान की पूजा न करने तक का फैसला ले लिया था। भिखारी बने भगवान शिव ने एक एक कर के साधुओं की बात का तर्क सहित खंडन करना शुरू कर दिया। क्रोधित साधुओं ने एक भिखारी द्वारा खुद की बातों का खंडन करते हुए उसे दण्डित करने का मन बना लिया। महाकाल के महामृत्युजंय मंत्र के जाप से होती है हर मनोकामना पूरी

साधुओं ने मन्त्रों से दानव और कई ज़हरीले सापों का सर्जन किया, जिन्होंने ने भिखारी बने भगवान शिव की हत्या का प्रयास करने लगे। अत: भगवान शिव ने एक अनोखा रूप धारण कर नृत्य मुद्रा में दानव व साँपों का संहार कर दिया। यहीं कारण है कि नटराज की मूर्ति में भगवान शिव को साँपों में लिपटा हुआ दिखाया जाता है। जब साधुओं ने भगवान शिव का ऐसा रूप देखा तो उनका अहंकार पल में नाश हो गया। यहीं कारण है कि नटराजन को सर्जन और विनाश दोनों का प्रतीक माना जाता है।

हालाँकि भरत मुनि के नाट्यशास्त्र के अनुसार शिव का तांडव नटराज रूप का प्रतीक है अर्थात  जब भगवान शिव तांडव करते हैं तो उनका यह रूप नटराज कहलता है, जहाँ  नट का अर्थ है कला और राज का अर्थ है राजा। यहाँ पर इस बात का उल्लेख भी मिलता है कि नटराज रूप इस बात का सूचक भी है कि अज्ञानता को सिर्फ ज्ञान, संगीत और नृत्य से ही दूर किया जा सकता है। वर्तमान में शास्त्रीय नृत्य से संबंधित जिनती भी विद्याएं प्रचलित हैं, वो सभी तांडव नृत्य की ही देन हैं।

 


Read all Latest Post on धर्म कर्म dharm karam in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: shiva natraj avtar according to skandpuran in Hindi  | In Category: धर्म कर्म dharm karam

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *