• गंगा प्रसाद की अर्थी  को अजीमुल्लाह सहित मोहल्ले के अन्य मुस्लिम युवकों ने दिया कन्धा

  • उन्होंने पुरे विधि-विधान से शव का दाह संस्कार कराया

  • गंगा के परिवार में पत्नी के अलावा 1 बेटा और 3 बेटियां थी

  • लॉकडाउन के चलते गोंडा से आने में असमर्थ रहा परिवार

कानपुर 2 मई (एजेंसी) न हिन्दू न मुस्लिम कानपूर में एक बार फिर मानवता की तस्वीर देखने को मिली जहाँ मजहब की चादर को एक तरफ रख अजीमुल्लाह सहित मोहल्ले के अन्य मुस्लिम युवकों ने मानव धर्म को प्राथमिकता दी । जी हां, कानपुर में अजीमुल्लाह व अन्य मुस्लिमों ने मजहब की प्रवाह न करते हुए पंडित गंगा प्रसाद की अर्थी  को कंधा देकर श्मशान घाट पहुंचाते हुए मानवता व हिन्दू – मुस्लिम भाइचारे की नयी तस्वीर पेश की है। इतना ही नहीं, पुरे विधि-विधान से शव का दाह संस्कार करा युवकों ने कानपुर की गंगा-जमुनी तहजीब को एक बार फिर से जीवंत करने का काम किया है।

बीमारी के चलते हुए गंगा का निधन

बेनाझाबर निवासी पंडित गंगा प्रसाद का गुर्दे खराब हो जाने के कारण कुलवंती हॉस्पिटल में निधन हो गया है। परिवार में 1 बेटा और 3 बेटियां और पत्नी हैं। मृतक का परिवार व रिश्तेदार गोंडा जिले का रहता है जो कि लॉकडाउन के चलते कानपुर आने में सक्षम नही हो पाया । जिसके बाद मोहल्ले के रहने वाले युवक और बुजर्ग मुस्लिम समुदाय के लोगों ने आगे आकर उनका अंतिम संस्कार कराया।

अर्थी की सामग्री खरीदी व दाह-संस्कार किया

अजीमुल्लाह ने कहा कि पंडित जी के मजहब को लेकर पहले उसे थोड़ी घबराहट हुई मगर मोहल्लेवालों ने हमारी हौफलाजाई की। जिसके बाद खुद के पैसे से हम सभी ने अर्थी की समाग्री खरीदी और शव का दाह संस्कार किया। नदीम ने कहा कि हमसब इंसान हैं और धर्म-मजहब ऊपरवाले ने नहीं बनाए। जमीन पर रहने वालों ने इंसानों की धर्म और जाति बनाई है।

लॉकडाउन के चलते गोंडा से आने में असमर्थ रहा परिवार

सलीम अहमद ने बताया कि हम लोग गंगा प्रसाद जी को पंडित जी कहकर पुकारते थे। वह जिंदादिल इंसान थे। लाॅकडाउन के कारण उनका परिवार गोंडा में फंस गया। उनकी अचानक तबियत बिगड़ी तो हमलोग अस्पताल लेकर गए और इलाज के दौरान पंडित जी का निधन हो गया। हमलोगों ने उनके बेटे को जानकारी दी, पर लाॅकडाउन के चलते वह पिता की अंतिम शव यात्रा में नहीं आ सके।

दाह संस्कार में ये लोग रहे मौजूद

दाह संस्कार के दौरान आफताब आलम, इमरान, नूर आलम, नदीम, मुन्ना, अजीजुल्लाह, सलीम, अहमद, सईद, जावेद, जुबैर, इरशाद, यासीन आदि लोग मौजूद रहे। सभी युवकों ने शव को कंधे से गंगा घाट तक पहुंचाया ।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें