अदालत ने दंगों के सीसीटीवी फुटेज संरक्षित रखने की याचिका पर केंद्र, पुलिस, आप सरकार से मांगा जवाब

Court Seeks Response From Central Police Aap Government On Plea To Preserve Cctv Footage Of Riots
  • दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने अधिकारियों को सोमवार को नोटिस जारी किया
  • मामले में अगली सुनवाई 27 मार्च के लिये निधारित कर दी
  • चिका में हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने और एसआईटी के गठन का अनुरोध किया गया है

नई दिल्ली, 16 मार्च (एजेंसी)। उत्तरपूर्वी दिल्ली में हाल ही में हुए दंगों के प्राप्त सीसीटीवी फुटेज संरक्षित रखने के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय ने पुलिस को निर्देश देने संबंधी याचिका पर केंद्र, पुलिस और आप सरकार से जवाब मांगा है।

दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने अधिकारियों को सोमवार को नोटिस जारी किया और मामले में अगली सुनवाई 27 मार्च के लिये निधारित कर दी। यह याचिका जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने दायर की है। याचिका में अनुरोध किया गया कि दिल्ली पुलिस को दंगा प्रभावित इलाकों के 23 फरवरी से लेकर एक मार्च तक के सीसीटीवी फुटेज संरक्षित रखने के निर्देश दिए जाएं।


साथ ही इसमें मौके से साक्ष्य जुटाए बिना मलबा साफ नहीं करने का भी निर्देश देने का अनुरोध किया गया है। याचिका में हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने और एसआईटी के गठन का अनुरोध किया गया है जिसमें उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीशों को शामिल किया जाये।

Read all Latest Post on राज्य rajya in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें
Title: court seeks response from central police aap government on plea to preserve cctv footage of riots in Hindi  | In Category: राज्य rajya

Next Post

कोरोना वायरस के चलते उच्चतम न्यायालय में वकीलों, याचिकाकर्ताओं व पत्रकारों की थर्मल जांच हुयी

Mon Mar 16 , 2020
कोरोना वायरस के चलते उच्चतम न्यायालय में वकीलों, याचिकाकर्ताओं व पत्रकारों की थर्मल जांच हुयी जांच के मद्देनजर प्रवेश द्वार पर स्वास्थ्य अधिकारियों के अलावा वकील, याचिकाकर्ता और पत्रकार पंक्तियों में खड़े नजर आए 16 मार्च को शीर्ष अदालत की 15 पीठों में से केवल छह पीठ ही सुनवाई करेंगी […]
Corona virus thermal investigation of lawyers petitioners journalists in supreme court

All Post