• इस भीषण आपदा में 4,400 से अधिक लोग मौत के घाट उतर गए

  • नौ नेशनल हाई-वे, 35 स्टेट हाई-वे, 2385 सड़कें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुए

  • 11,091 से ज्यादा मवेशी या तो बाढ़ में बह गए या फिर मलबे में दबकर मर गए

देहरादून 15 जून (एजेंसी) उत्तराखंड में हुयी केदारनाथ आपदा को सात साल पूरे हो गए, इस भीषण त्रासदी को याद कर आज भी उत्तराखंड ही नहीं बल्कि भारत के सभी वासियों के रूह सिहर जाती हैं। 16 जून 2103 को हुयी इस भीषण आपदा में 4,400 से अधिक लोग मौत के घाट उतर गये थे, जबकि कई लोग आज तक लापता है। इतना ही नहीं इस आपदा में 4,200 से ज्यादा गांवों का आपस में संपर्क टूट गया था । 11,091 से ज्यादा मवेशी या तो बाढ़ में बह गए या फिर मलबे में दबकर मर गए थे । तकरीबन 2,141 भवनों का नामों-निशान तक मिट गया था, जबकि यहाँ आने वाले पर्यटकों के लिए बनाये गए होटलों में से 100 से ज्यादा बड़े व छोटे होटल कहाँ गये किसी को पता नहीं चला ।

आपदा के दौरान यात्रा मार्ग में फंसे 90 हजार यात्रियों को सेना ने और 30 हजार लोगों को पुलिस ने अपनी जान को जोखिम में डालकर बचाया था । नौ नेशनल हाई-वे, 35 स्टेट हाई-वे, 2385 सड़कें, 86 मोटर पुल, 172 बड़े और छोटे पुल इस आपदा के चलते या तो बह गए या बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए।

इस आपदा के भीषण रूप का अंदाज़ा इस बात से लगा सकते है कि  गौरीकुंड से केदारनाथ जाने वाला पैदल मार्ग रामबाड़ा और गरुड़चट्टी से होकर गुजरता था परन्तु उफनती लहरों ने रामबाड़ा का अस्तित्व तक खत्म कर दिया। इस आपदा के एक साल बाद यानी कि साल 2014 में केदारनाथ जाने वाले रास्ता का रूट बदल दिया गया । साल 2017 में प्रधानमंत्री मोदी जी की देख रेख में केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों ने जोर पकड़ा और इसी के साथ गरुड़चट्टी को दुबारा पुनर्जीवित करने कवायद ने भी पंख फैलाये। परिणामस्वरूप अक्टूबर 2018 में यहाँ रास्ता तैयार कर लिया गया।

यकीनन ये एक बुरा समय था जब उत्तराखण्ड के कई जिलों के लोग दाने दाने के लिए मोहताज हो गये थे, यहाँ के लोग आज भी उस मंजर को याद कर दुबारा ऐसा समय न देखना पड़े इसकी प्रार्थना करते है ।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें