• निवर्तमान विधायकों को नवोदित महिला प्रत्याशी चुनौती दे रही हैं
  • राजनीतिक दलों ने इस बार के चुनाव में उन्हें टिकट देने में कंजूसी दिखाई
  • प्रथम चरण में 71 सीटों पर हो रहे चुनाव में 1066 प्रत्यपाशी चुनावी मैदान में
  • अजय प्रताप इस बार रालोसपा के टिकट पर चुनावी रणभूमि में उतर आये हैं

पटना। बिहार में प्रथम चरण में 28 अक्टूबर को 71 विधानसभा सीटों पर होने वाले चुनाव में कई सीटें ऐसी हैं, जहां निवर्तमान विधायकों को नवोदित महिला प्रत्याशी चुनौती दे रही हैं। बिहार में महिलाओं को सशक्त बनाने और राजनीति में उनकी सहभागिता बढ़ाने के लिए बड़े-बड़े दावे करने वाले राजनीतिक दलों ने इस बार के चुनाव में उन्हें टिकट देने में कंजूसी दिखाई है।

प्रथम चरण में 71 सीटों पर हो रहे चुनाव में 1066 प्रत्यपाशी चुनावी मैदान में हैं। इनमें 952 पुरुष जबकि महज 114 महिला हैं, जो इस चरण के कुल उम्मीदवारों का 10.69 प्रतिशत है। इस चरण में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने सर्वाधिक 10, जनता दल यूनाइटेड (जदयू) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पांच-पांच, लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) ने आठ, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) ने चार, कांग्रेस ने एक तथा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने दो महिला प्रत्याशियों पर भरोसा दिखाया है।

जमुई जिले की जमुई सीट से भाजपा के टिकट पर पहली बार पूर्व केन्द्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह पुत्री तथा अंतर्राष्ट्रीय शूटर श्रेयसी सिंह राजद निवर्तमान विधायक विजय प्रकाश यादव को चुनौती दे रही हैं। वर्ष 2015 में राजद के श्री यादव ने पूर्व कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह के पुत्र और भाजपा के अजय प्रताप को 8240 मतों के अंतर से पराजित किया था।

इस बार श्री अजय प्रताप इस बार रालोसपा के टिकट पर चुनावी रणभूमि में उतर आये हैं। मुंगेर जिले की तारापुर सीट से राजद के टिकट पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री जय प्रकाश नारायण यादव की पुत्री एवं नवोदित प्रत्याशी दिव्या प्रकाश जदयू के निवर्तमान विधायक डॉ. मेवालाल चौधरी को टक्कर देने जा रही हैं। वर्ष 2015 के चुनाव में जदयू के डॉ. चौधरी ने हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के उम्मीदवार शकुनी चौधरी को 11947 मतों के अंतर से हराया था।

नवादा सीट से दुष्कर्म मामले में सजायाफ्ता राजबल्लभ यादव की पत्नी एवं राजद उम्मीदवारी नवोदित विभा देवी का मुकाबला जदयू के निवर्तमान विधायक कौशल यादव से होगा। राजबल्लभ यादव की विधानसभा सदस्यता समाप्त होने के बाद 2019 में हुए उपचुनाव में जदयू के कौशल यादव ने जीत हासिल की थी। भोजपुर जिले की जगदीशपुर सीट से जदयू ने दांवा पंचायत की मुखिया सुष्मलता कुशवाहा को पहली बार विधानसभा चुनाव के रण में उतारा है और वह राजद के निवर्तमान विधायक राम विशुन सिंह को चुनौती दे रही हैं।

टिकट कटने से से नाराज पूर्व मंत्री श्री भगवान सिंह कुश्वाहा लोजपा के सिंबल पर चुनाव को त्रिकोणीय बना रहे हैं। पिछले चुनाव में श्री सिंह ने बीएलएसपी के राकेश रोशन को 10195 मतों के अंतर से मात दी थी। डुमरांव से जदयू की प्रवक्ता नवोदित अंजुम आरा जदयू से टिकट कटने से नाराज निर्दलीय चुनाव लड़ रहे निवर्तमान विधायक ददन यादव उर्फ ददन पहलवान को टक्कर दे रही हैं।

वहीं, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी-लेनिनवादी (भाकपा-माले) के टिकट पर पहली बार जोर लगा रहे अजित कुमार सिंह और महाराज कमल बहादुर सिंह के पौत्र निर्दलीय शिवांग विजय सिंह मैदान में हैं। पिछले चुनाव में जदयू के ददन यादव ने बीएलएसपी के राम बिहारी सिंह को 30339 मतों से हराया था।

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें