तेज़ बुखार और साँस लेने में दिक्कत के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया जांच करने पर कोविड 19 संक्रमण की पुष्टि रूसी, मध्य एशियाई और पूर्वी एशियाई इतिहास के विशेषज्ञ माने जाते थे कोलकाता, 10 मई (एजेंसी)। 68 वर्षीय प्रख्यात इतिहासकार हरि शंकर वासुदेवन की आज एक अस्पताल में […]

गर्मी की छुट्टियां खत्म हो गई थीं। सभी बच्चों के स्कूल खुल गए थे। सरगुन आठवीं कक्षा में पढ़ती थी। एक दिन असेम्बली में स्कूल की प्रिंसिपल स्वाति कपूर बोलीं, बच्चो, तुम सबके लिए एक बहुत अच्छी खबर है। तुम सभी ने गर्मी की छुट्टियों में बहुत कुछ नया सीखा […]

आपसी सदभाव व प्रेम सदा एक दूसरे के कष्टों को हर लेते है प्राचीन काल में एक नदी के किनारे बसा नगर व्यापार का केन्द्र था। फिर आए उस नगर के बुरे दिन, जब एक वर्ष भारी वर्षा हुई। नदी ने अपना रास्ता बदल दिया। लोगों के लिए पीने का […]

 Premchand Story : Mata Ka Hriday : माँ का ह्रदय नामक कहानी बेहद ही मार्मिक है। इस कहानी के माध्यम से मुंशी प्रेमचंद से एक गरीब माँ की व्यथा को ज़ाहिर किया है। गरीबी के उस हाल में जब उसके पास दो जून की रोटी भी न होती थी उसने […]

Munshi premchand ki kahani Qatil मुंशी प्रेमचंद की कहानी कातिल: जाड़ों की रात में धर्मवीर अपनी माँ से बात कर रहा होता है कि यहाँ लोग कितनी जल्दी सो जाते है जबकि यूरोप जैसे देशों में तो इस वक़्त सैर सपाटा किया जा रहा होता है। इसी तरह की बातें […]

लैला: प्रेमचंद | Laila : Premchand’s Hindi story: मुंशी प्रेमचंद ने लैला को जिसके गीत सुन कोई भी मन्त्र मुग्ध हो जाता था अपनी कहानी का मुख्य पात्र चुना। एक दिन जब शहजादा नादिर ने लैला को गाते हुए सुना तो वो खुद को उसके समक्ष जाने से रोक न […]

Nirvaasan Munshi Premchand ki Kahani : कलम के सिपाही मुंशी प्रेमचंद ने समाज में महिलाओं की स्थिति और उनको लेकर बनाये गए नजरिये पर जमकर प्रहार किया है जिसका सटीक उदहारण उनकी कहानी निर्वासन (Nirvaasan) में पढने के लिए मिलता है। कहानी के माध्यम से पुरुष का एक महिला को […]

Story of premchands life in his own words in hindi: कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद के अपने जीवन की यह कहानी 1932 में हंस के आत्मकथा अंक में प्रकाशित हुई थी मेरा जीवन सपाट, समतल मैदान है, जिसमें कहीं-कहीं खड्ढे तो हैं पर टीलों, पर्वतों, घने जंगलों, गहरी घाटियों और खंडहरों […]

इस्लामी सभ्यता पर मुंशी प्रेमचंद का यह लेख सबसे पहले 1925 में ‘प्रताप’ में प्रकाशित हुआ था। हिंदू और मुसलमान दोनों एक हज़ार वर्षों से हिंदुस्तान में रहते चले आये हैं लेकिन अभी तक एक-दूसरे को समझ नहीं सके। हिंदू के लिए मुसलमान एक रहस्य है और मुसलमान के लिये […]

Baby Haldar Biography in hindi: घरों में काम करने वाली मामूली-सी नौकरानी बेबी हालदार (Baby Haldar) कैसे लेखिका बन गई, इसकी बेहद प्रेरणादायक और संघर्षपूर्ण दास्तान है। खुलासा डॉट इन में हम बेबी हालदार के संघर्षमय जीवन की दास्तान आप लोगों के सामने रखेंगे। जिसे पढ़कर आप भी एक बार […]

All Post