अदम गोंडवी हिंदी गजल : भुखमरी की ज़द में है या दार के साये में है  

Adam Gondvi Hindi Gazal Bhukhmari ki Zad mai hai ya daar ke saaye mai hai

भुखमरी की ज़द में है या दार के साये में है

अहले हिन्दुस्तान अब तलवार के साये में है


छा गई है जेहन की परतों पर मायूसी की धूप

आदमी गिरती हुई दीवार के साये में है

बेबसी का इक समंदर दूर तक फैला हुआ

और कश्ती कागजी पतवार के साये में है

हम फ़कीरों की न पूछो मुतमईन वो भी नहीं

जो तुम्हारी गेसुए खमदार के साये में है

 

अदम गोंडवी की अन्य गजल

 

 


Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: adam gondvi hindi gazal bhukhmari ki zad mai hai ya daar ke saaye mai hai in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Next Post

अदम गोंडवी हिंदी गजल : बज़ाहिर प्यार की दुनिया में जो नाकाम होता है  

Thu Jul 5 , 2018
बज़ाहिर प्यार की दुनिया में जो नाकाम होता है कोई रूसो कोई हिटलर कोई खय्याम होता है ज़हर देते हैं उसको हम कि ले जाते हैं सूली पर यही हर दौर के मंसूर का अंजाम होता है जुनूने-शौक में बेशक लिपटने को लिपट जाएँ हवाओं में कहीं महबूब का पैगाम […]
Adam Gondvi Hindi Gazal Bajahir Pyar ki duniya mai jo naakam hota haiAdam Gondvi Hindi Gazal Bajahir Pyar ki duniya mai jo naakam hota hai

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।