अदम गोंडवी हिंदी गजल : जिसके सम्मोहन में पागल धरती है आकाश भी है

अदम गोंडवी हिंदी गजल : जिसके सम्मोहन में पागल धरती है आकाश भी है Adam Gondvi Hindi Gazal: Jiske sammohan mai pagal dharti hai aakash bhi hai

जिसके सम्मोहन में पागल धरती है आकाश भी है

एक पहेली-सी दुनिया ये गल्प भी है इतिहास भी है


चिंतन के सोपान पे चढ़ कर चाँद-सितारे छू आये

लेकिन मन की गहराई में माटी की बू-बास भी है

मानवमन के द्वन्द्व को आख़िर किस साँचे में ढालोगे

‘महारास’ की पृष्ट-भूमि में ओशो का सन्यास भी है

इन्द्र-धनुष के पुल से गुज़र कर इस बस्ती तक आए हैं

जहाँ भूख की धूप सलोनी चंचल है बिन्दास भी है

कंकरीट के इस जंगल में फूल खिले पर गंध नहीं

स्मृतियों की घाटी में यूँ कहने को मधुमास भी है.

 


अदम गोंडवी की अन्य गजल

 

Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: adam gondvi hindi gazal jiske sammohan mai pagal dharti hai aakash bhi hai in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Next Post

चेतन आनंद: बनके आई जो दुल्हन उस खुशी के चर्चे हैं

Thu Jul 19 , 2018
बनके आई जो दुल्हन उस खुशी के चर्चे हैं। वक़्त के कहारों के पालकी के चर्चे हैं।।   सुन लिया है लोगों ने आ रहे हो तुम जबसे तबसे बस मुहल्ले में चांदनी के चर्चे हैं।।   नैन-नैन दिखना तुम सांस-सांस भी रहना आजकल मेरे घर में ज़िन्दगी के चर्चे […]
चेतन आनंद: बनके आई जो दुल्हन उस खुशी के चर्चे हैं Chetan anand Hindi Gazal: Banke aayi jo dulhan us khushi ke charche haiचेतन आनंद: बनके आई जो दुल्हन उस खुशी के चर्चे हैं Chetan anand Hindi Gazal: Banke aayi jo dulhan us khushi ke charche hai

Leave a Reply