सौ में सत्तर आदमी फ़िलहाल जब नाशाद है-अदम गोंडवी

Adam Gondvi – Sau mein sattar aadmi filhaal jab naashaad hai

सौ में सत्तर आदमी फ़िलहाल जब नाशाद* है

दिल पे रख के हाथ कहिए देश क्या आज़ाद है


कोठियों से मुल्क के मेआर* को मत आंकिए

असली हिंदुस्तान तो फुटपाथ पे आबाद है

जिस शहर में मुंतजिम* अंधे हो जल्वागाह के

उस शहर में रोशनी की बात बेबुनियाद है

ये नई पीढ़ी पे मबनी* है वहीं जज्मेंट दे

फल्सफा गांधी का मौजूं* है कि नक्सलवाद है

यह गजल मरहूम मंटों की नजर है, दोस्तों

जिसके अफसाने में ‘ठंडे गोश्त’ की रुदाद* है

* नाशाद – उदास, दुखी


* मेआर  – मापदंड, रूतबा

* मुन्तज़िम – व्यवस्थापक

* मबनी  – निर्भर

* मौजूं – उचित, उपयुक्त


* रूदाद – विवरण, वृतांत

अदम गोंडवी

अदम गोंडवी की अन्य गजल

 


Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: adam gondvi sau mein sattar aadmi filhaal jab naashaad hai in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Next Post

अब अपनी रूह के छालों का कुछ हिसाब करूँ –राहत इंदौरी

Mon Apr 9 , 2018
अब अपनी रूह के छालों का कुछ हिसाब करूँ मैं चाहता था चराग़ों को आफ़्ताब करूँ मुझे बुतों से इजाज़त अगर कभी मिल जाए तो शहर-भर के ख़ुदाओं को बे-नक़ाब करूँ उस आदमी को बस इक धुन सवार रहती है बहुत हसीन है दुनिया इसे ख़राब करूँ है मेरे चारों […]
Rahat Induari Gazal in hindi apni ruh ke chhalo ka kuchh hisaab karuRahat Induari Gazal in hindi apni ruh ke chhalo ka kuchh hisaab karu

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।