चेतन आनंद : पहले तो होते थे केवल काले नीले पीले दिन
Chetan anand Hindi Gazal: Pahle to hote the kaval kale neele peele din

पहले तो होते थे केवल काले, नीले, पीले दिन,
हमने ही तो कर डाले हैं अब सारे ज़हरीले दिन।
मां देती थी दूध-कटोरी, पिता डांट के सँग टाॅफी,
बड़े हुए तो दूर हो गये मस्ती भरे रसीले दिन।

दिन की ख़ातिर रातें रोतीं आंखें भर-भरके आँसू,
लेकिन पत्थर बने हुए हैं निष्ठुर और हठीले दिन।
कुदरत की गरदन पर आरे, वृक्ष हैं कटते रोज़ाना,
कोयल-गौरैया सब रूठीं, सिमटे आज सुरीले दिन।

पंछी क्या रूठे, सूरज भी गुस्सा रोज़ दिखाता है,
उसने तहस-नहस कर डाले देखो छैल-छबीले दिन।

 

 

 

 

चेतन आनंद की अन्य हिंदी गजलें

 

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें