चेतन आनंद : याद आते हैं हमें जब चंद चेहरे देरतक

चेतन आनंद : याद आते हैं हमें जब चंद चेहरे देरतक Chetan anand Hindi Gazal: Yaad aate hai hame jab chand chehre der taq

याद आते हैं हमें जब चंद चेहरे देरतक

हम उतर जाते हैं गहरे और गहरे देरतक।


 

चांदनी आंगन में टहली भी तो दो पल के लिये

धूप के साये अगर आये तो ठहरे देरतक।

 

बंदिशें दलदल पे मुमकिन ही नहीं जो लग सकें

रेत की ही प्यास पर लगते हैं पहरे देरतक।

 

मैं हूं दरिया और खुशी है मैं किसी का हो गया

ये समन्दर कब हुआ किसका जो लहरे देरतक।


 

ये हक़ीक़त है यहां मेरी कहानी बैठकर

ग़ौर से सुनते रहे कल चंद बहरे देरतक।

[wp_ad_camp_2]


 

 

चेतन आनंद की अन्य हिंदी गजलें

चेतन आनंद : फूल तितली झील झरने चाँद तारे रख दिए


चेतन आनंद: झांके है कोई पलपल अहसास की नदी में

चेतन आनंद: अहसास का फलक़ है, अल्फाज़ की ज़मीं है

चेतन आनंद: हम तुम्हारे ग़ुलाम हो न सके

चेतन आनंद : प्यार कब आगे बढ़ा तक़रार से रहकर अलग

चेतन आनंद : आ गये रिश्तों का हम रंगीं दुशाला छोड़कर

चेतन आनंद : हम नहीं शाख, न पत्ते ही, न फल जैसे हैं

चेतन आनंद : आंगन में तेरा अक्सर दीवार खड़ी करना

चेतन आनंद : हमारे हौसले अहसास की हद से बड़े होते

चेतन आनंद : उजाले की हुई पत्थर सरीखी पीर को तोड़ें

चेतन आनंद : ऐसा भी कोई तौर तरीका निकालिये

चेतन आनंद : वक्त की सियासत के क्या अजब झमेले हैं

चेतन आनंद : गुमनाम हर बशर की पहचान बनके जी

चेतन आनंद : मुश्क़िल है, मुश्क़िलात की तह तक नहीं जाती

चेतन आनंद : कभी रहे हम भीड़ में भइया, कभी रहे तन्हाई में

चेतन आनंद : राहों से पूछ लेना, पत्थर से पूछ लेना

चेतन आनंद : इन सियासतदानों के घर में भी ठोकर मारकर

चेतन आनंद : पहले तो होते थे केवल काले, नीले, पीले दिन

चेतन आनंद : अब तो बदल पुराना सोच

चेतन आनंद : अजब अनहोनियां हैं फिर अंधेरों की अदालत में

चेतन आनंद : आख़िर में बैठ ही गया तन्हाइयों के साथ

चेतन आनंद : मेरी परवाज़ जब-जब भी कभी अम्बर में होती है

चेतन आनंद : याद आते हैं हमें जब चंद चेहरे देरतक

चेतन आनंद : खमोशियां ही ख़मोशियां हैं हमारे दिल में तुम्हारे दिल में

चेतन आनंद: बनके आई जो दुल्हन उस खुशी के चर्चे हैं

[wp_ad_camp_2]

Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: chetan anand hindi gazal yaad aate hai hame jab chand chehre der taq in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Next Post

चेतन आनंद : मेरी परवाज़ जब-जब भी कभी अम्बर में होती है

Thu Jul 19 , 2018
मेरी परवाज़ जब-जब भी कभी अम्बर में होती है कोई उलझी हुई क़ैंची भी मेरे पर में होती है।   भले कुछ भी करो लेकिन हमेशा याद ये रखना पड़ोसी भांप लेते हैं जो अनबन घर में होती है।   तू इक छोटी-सी मछली है, तू बचना ऐसे बगुलों से […]
चेतन आनंद : मेरी परवाज़ जब-जब भी कभी अम्बर में होती है Chetan anand Hindi Gazal: Meri parwaaj jab jab bhi kabhi ambar mai hoti hai

Leave a Reply