कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये : दुष्यंत कुमार

Kaha to tay tha charagaa harek ghar ke liye dushyant kumar ki gazal

कहाँ तो तय था चराग़ाँ हर एक घर के लिये

कहाँ चराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिये


यहाँ दरख़्तों के साये में धूप लगती है

चलो यहाँ से चले और उम्र भर के लिये

न हो क़मीज़ तो घुटनों से पेट ढक लेंगे

ये लोग कितने मुनासिब हैं इस सफ़र के लिये

ख़ुदा नहीं न सही आदमी का ख़्वाब सही

कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिये

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता

मैं बेक़रार हूँ आवाज़ में असर के लिये

जियें तो अपने बग़ीचे में गुलमोहर के तले


मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिये.

 

 


Read all Latest Post on गजल ghazal in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें
Title: kaha to tay tha charagaa harek ghar ke liye dushyant kumar ki gazal in Hindi  | In Category: गजल ghazal

Next Post

अमिताभ को समझ नहीं आई इनफिनिटी वॉर, लोगों ने किया ट्रोल

Tue May 15 , 2018
जहाँ हॉलीवुड फिल्म अवेंजर्स: इन्फिनिटी वॉर ने कमाई के नए रिकॉर्ड स्थापित कर एक नया कीर्तिमान गढ़ा है तो दूसरी तरफ बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन ने इस फिल्म को लेकर ऐसी टिप्पणी कर दी कि उनके ही फैन्स उन्हें ट्रोल करने लगे। ये तो सभी जानते हैं कि बच्चन साहब […]
Amitabh bachhan

All Post


Leave a Reply