कछुआ और केकड़ा की मित्रता (लघुकथा) | Story about crab and tortoise friendship

crab-tortoise_orginal_painting

Story about crab and tortoise friendship

बहुत पुरानी बात है । एक नदी के किनारे रहने वाले  कछुए और केकड़े की दोस्ती हो गयी। दोनों घंटो-घंटो तक नदी के किनारे पर साथ रहते।  कछुए को अपने दोस्त और उसकी दोस्ती पर बहुत नाज़ था । एक दिन कछुए ने नदी पार करने की इच्छा केकड़े पर जाहिर की, परन्तु केकड़े ने असमर्थता जताते हुए कहा कि नदी पार करना उसके बस में नहीं है। कछुए ने दोस्ती का फ़र्ज़ अदा करते हुए कहा कि नदी मैं पार करवाऊंगा, बस तुम मेरी कमर को कसकर पकडे रहना।

जैसा कि तय हुआ था तो दोनों नदी पार करने के लिए तैयार थे। कछुआ केकड़े को कमर पर बैठा कर नदी पार करने लगा। दोनों नदी पार कर ही रहे थे कि अचानक कछुए को लगा जैसे उसकी कमर पर कुछ चुभा हो, मगर उसने नज़रंदाज़ कर दिया। थोड़ी देर बाद फिर कछुए को वैसा ही लगा, जब उसने देखना चाहा तो पाया उसका दोस्त केकड़ा उसकी कमर पर डंक मार रहा है । परन्तु कछुए ने दोस्ती को सर्वोपरि रखा और शांत भाव से अपने दोस्त को नदी पार कराने पर अपना ध्यान केन्द्रित किया। जबकि पूरे रास्ते में केकड़ा कई बार कछुए की कमर और गर्दन पर डंक मार चुका था ।


जब दोनो ने नदी पार कर ली तो कछुए ने अपनी नाराज़गी व्यक्त की और डंक मारने का कारण पूछा । केकड़े ने कहा, “अरे भाई ! ये तो मेरी आदत (प्रवर्ति) है, भला मैं इसे कैसे छोड़ सकता हूँ।”  केकड़े के मुंह से ऐसी बात सुन कछुए को समझ आ चुका था कि गलती केकड़े की नही है बल्कि खुद उसकी है ।

कभी कभी हम भी बिलकुल कछुए जैसा बर्ताव करते है, किसी पर भी अतिविश्वास करने लगते है, और केकड़े रूपी इंसान को अपनी पीठ पर बैठा लेते हैं  जिसका परिणाम बहुत दुखदायी और हमारी सोच के विपरीत निकलता है । मित्र चुनें मगर अतिविश्वास कभी न करे, क्योंकि केकड़ा तो केकड़ा होता है, वो अपनी प्रवर्ति कभी नही छोड़ सकता ।

 

जवाहर गोयल की हिंदी कहानी : हबीब का घर

कछुआ और केकड़ा की मित्रता (लघुकथा)

सआदत हसन मंटों की एक मार्मिक कहानी खोल दो

मशहूर अफसाना निगार सआदत हसन मंटों की इश्किया कहानी

कथा सम्राट मुंशी प्रेमचंद की प्रसिद्ध कहानी “दो बैलों की कथा

Read all Latest Post on कहानी kahani in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: hindi kahaniya a story about crab and tortoise friendship in Hindi  | In Category: कहानी kahani

Next Post

कैफ़ी आज़मी की गजल :  शोर परिंदों ने यु ही न मचाया होगा

Thu Apr 12 , 2018
शोर परिंदों ने यु ही न मचाया होगा कोई जंगल की तरफ़ शहर से आया होगा पेड़ के कांटने वालो को ये मालूम तो था जिस्म जल जायंगे जब सर पे न साया होगा मानिए जश्न-ऐ-बहार ने ये सोचा भी नहीं किसने कांटो को लहू पाना पिलाया होगा अपने जंगल […]
Kafi azami gazal -shor parindo ne unh hi n machaya hoga

All Post


Leave a Reply