फणीश्वरनाथ रेणु की कविता : साजन होली आई है

Hindi Kavita Phanishwar Nath 'Renu ki Kavita Sajan Hoi Aayi Hai

साजन! होली आई है!

सुख से हँसना


जी भर गाना

मस्ती से मन को बहलाना

पर्व हो गया आज-

साजन ! होली आई है!

हँसाने हमको आई है!

साजन! होली आई है!

इसी बहाने

क्षण भर गा लें

दुखमय जीवन को बहला लें


ले मस्ती की आग-

साजन! होली आई है!

जलाने जग को आई है!

साजन! होली आई है!


रंग उड़ाती

मधु बरसाती

कण-कण में यौवन बिखराती,


ऋतु वसंत का राज-

लेकर होली आई है!

जिलाने हमको आई है!

साजन ! होली आई है!

खूनी और बर्बर

लड़कर-मरकर-

मधकर नर-शोणित का सागर

पा न सका है आज-

सुधा वह हमने पाई है !

साजन! होली आई है!

साजन ! होली आई है !

यौवन की जय !

जीवन की लय!

गूँज रहा है मोहक मधुमय

उड़ते रंग-गुलाल

मस्ती जग में छाई है

साजन! होली आई है!

Read all Latest Post on कविता kavita in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: hindi kavita phanishwar nath renu ki kavita sajan hoi aayi hai in Hindi  | In Category: कविता kavita

Next Post

अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' की कविता : कर्मवीर

Mon Jun 11 , 2018
Karmveer Poem -Ayodhya Singh Upadhyay ~ कर्मवीर – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध   देख कर बाधा विविध, बहु विघ्न घबराते नहीं। रह भरोसे भाग के दुख भोग पछताते नहीं। काम कितना ही कठिन हो किन्तु उकताते नहीं। भीड़ में चंचल बने जो वीर दिखलाते नहीं। हो गये एक आन में […]
Hindi Poem Ayodhya Singh Upadhyay Ki Kavita KarmveerHindi Poem Ayodhya Singh Upadhyay Ki Kavita Karmveer

Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।