देखो कैसे खड़ा हिमालय : सोहन लाल द्विवेदी

Hindi Poem on Himalaya by Sohanlal diwedi dekho kaise khada himalaya

Hindi Poem on Himalaya by Sohanlal diwedi dekho kaise khada himalaya

युग युग से है अपने पथ पर

देखो कैसा खड़ा हिमालय!


डिगता कभी न अपने प्रण से

रहता प्रण पर अड़ा हिमालय!

जो जो भी बाधायें आईं

उन सब से ही लड़ा हिमालय,

इसीलिए तो दुनिया भर में

हुआ सभी से बड़ा हिमालय!

अगर न करता काम कभी कुछ

रहता हरदम पड़ा हिमालय

तो भारत के शीश चमकता


नहीं मुकुट–सा जड़ा हिमालय!

खड़ा हिमालय बता रहा है

डरो न आँधी पानी में,

खड़े रहो अपने पथ पर


सब कठिनाई तूफानी में!

डिगो न अपने प्रण से तो ––

सब कुछ पा सकते हो प्यारे!


तुम भी ऊँचे हो सकते हो

छू सकते नभ के तारे!!

अचल रहा जो अपने पथ पर

लाख मुसीबत आने में,

मिली सफलता जग में उसको

जीने में मर जाने में!

Read all Latest Post on कविता kavita in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: hindi poem on himalaya by sohanlal diwedi dekho kaise khada himalaya in Hindi  | In Category: कविता kavita

Next Post

गिरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है 

Fri May 11 , 2018
इतनी ऊँची इसकी चोटी कि सकल धरती का ताज यही । पर्वत-पहाड़ से भरी धरा पर केवल पर्वतराज यही ।। अंबर में सिर, पाताल चरण मन इसका गंगा का बचपन तन वरण-वरण मुख निरावरण इसकी छाया में जो भी है, वह मस्‍तक नहीं झुकाता है । ग‍िरिराज हिमालय से भारत […]
Hindi Poem on Himalaya by Gopal singh nepali Giriraj himalaya se bharat ka kuchh esa hi naata hai

Leave a Reply