बड़की भौजी : कैलाश गौतम | Badki Bauji: Kailash gautam

Kailash Gautam ki kavita badki bauji

बड़की भौजी : कैलाश गौतम | Badki Bauji: Kailash gautam

जब देखो तब बड़की भौजी हँसती रहती है

हँसती रहती है कामों में फँसती रहती है ।


झरझर झरझर हँसी होंठ पर झरती रहती है

घर का खाली कोना भौजी भरती रहती है ।।

 

डोरा देह कटोरा आँखें जिधर निकलती है

बड़की भौजी की ही घंटों चर्चा चलती है ।

ख़ुद से बड़ी उमर के आगे झुककर चलती है

आधी रात गए तक भौजी घर में खटती है ।।

 

कभी न करती नखरा-तिल्ला सादा रहती है


जैसे बहती नाव नदी में वैसे बहती है ।

सबका मन रखती है घर में सबको जीती है

गम खाती है बड़की भौजी गुस्सा पीती है ।।

 


चौका-चूल्हा, खेत-कियारी, सानी-पानी में

आगे-आगे रहती है कल की अगवानी में ।

पीढ़ा देती पानी देती थाली देती है


निकल गई आगे से बिल्ली गाली देती है ।।

 

भौजी दोनों हाथ दौड़कर काम पकड़ती है

दूध पकड़ती दवा पकड़ती दाम पकड़ती है ।

इधर भागती उधर भागती नाचा करती है

बड़की भौजी सबका चेहरा बाँचा करती है ।।

 

फ़ुर्सत में जब रहती है खुलकर बतियाती है

अदरक वाली चाय पिलाती, पान खिलाती है ।

भईया बदल गए पर भौजी बदली नहीं कभी

सास के आगे उल्टे पल्ला निकली नहीं कभी ।।

 

हारी नहीं कभी मौसम से सटकर चलने में

गीत बदलने में है आगे राग बदलने में ।

मुँह पर छींटा मार-मार कर ननद जगाती है

कौवा को ननदोई कहकर हँसी उड़ाती है ।।

 

बुद्धू को बेमशरफ कहती भौजी फागुन में

छोटी को कहती है गरी-चिरौंजी फागुन में ।

छ्ठे-छमासे गंगा जाती पुण्य कमाती है

इनकी-उनकी सबकी डुबकी स्वयं लगाती है ।।

 

आँगन की तुलसी को भौजी दूध चढ़ाती है

घर में कोई सौत न आए यही मनाती है ।

भइया की बातों में भौजी इतना फूल गई

दाल परोसकर बैठी रोटी देना भूल गई ।।

 

 

Read all Latest Post on कविता kavita in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: kailash gautam ki kavita badki bauji in Hindi  | In Category: कविता kavita

Next Post

पप्पू की दुल्हन : कैलाश गौतम

Sun May 13 , 2018
हमारे पड़ोस में एक नयी नयी बहू आई. गर्मी के दिन थे, एक दिन छत पर से उसकी आवाज़ आई – अम्मा जी ! बाबू जी की खटिया मैंने खड़ी कर दी, आपकी भी कर दूँ ?. दरअसल उसका आशय था, छत पर बिछी चारपाइयों के खड़ा करने से, लेकिन […]
Kailash Gautam ki kavita Pappu ki dulhanKailash Gautam ki kavita Pappu ki dulhan

Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।