आरती संग्रह - बड़ी खबरें

आरती

मां सरस्वती की आरती

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता। सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥ चंद्रवदनि पद्मासिनी, द्युति मंगलकारी। सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी ॥ जय. ॥ बाएं कर में वीणा, दूजे कर माला। शीश मुकुट-मणि‍ सोहे, गले मोतियन माला ॥ जय. ॥ देव शरण में आए, उनका उद्धार किया। पैठि मंथरा दासी,
आरती

तुलसी माता की आरती

जय तुलसी माता, मैया जय तुलसी माता। सब सुख की दाता वर माता ।। जय जय तुलसी माता… सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर। रज से रक्षा करके भव त्राता।। जय जय तुलसी माता… बहु पुत्री है श्यामा, सुर बल्ली हे ग्राम्या। विष्णु प्रिय जो तुमको सेवे सो नर तर जाता।। जय जय […]
आरती

श्री श्यामबाबा की आरती

ॐ जय श्री श्याम हरे , बाबा जय श्री श्याम हरे | खाटू धाम विराजत, अनुपम रुप धरे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे.... रत्न जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुले| तन केशरिया बागों, कुण्डल श्रवण पडे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे.... गल पुष्पों की माला, सिर पर मुकुट धरे| खेवत धूप अग्नि पर, […]
आरती

श्री बद्रीनाथजी की आरती

पवन मंद सुगंध शीतल हेम मंदिर शोभितम् निकट गंगा बहत निर्मल श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्। शेष सुमिरन करत निशदिन धरत ध्यान महेश्वरम्। शक्ति गौरी गणेश शारद नारद मुनि उच्चारणम्। जोग ध्यान अपार लीला श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्। इंद्र चंद्र कुबेर धुनि कर धूप दीप प्रकाशितम्। सिद्ध मुनिजन करत जै जै बद्रीनाथ विश्व्म्भरम्। यक्ष किन्नर करत कौतुक ज्ञान […]