Shani in Second house in birthchart in hindi: किसी भी जातक की जन्मकुंडली में दूसरे भाव (Second house) को धनस्थान कहा जाता है। कुंडली का द्वितीय भाव (Second House) जातक के जीवन काल में उसके द्वारा संचय धन को दर्शाता है। कुंडली का यह भाव जातक की वाणी और उसके […]