आज की रात बहुत गर्म हवा चलती है आज की रात न फुटपाथ पे नींद आयेगी । सब उठो, मैं भी उठूँ, तुम भी उठो, तुम भी उठो कोई खिड़की इसी दीवार में खुल जायेगी । ये ज़मीं तब भी निगल लेने पे आमादा थी पाँव जब टूटती शाखों से […]

All Post