ॐ जय श्री श्याम हरे , बाबा जय श्री श्याम हरे | खाटू धाम विराजत, अनुपम रुप धरे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे…. रत्न जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुले| तन केशरिया बागों, कुण्डल श्रवण पडे ॥ ॐ जय श्री श्याम हरे…. गल पुष्पों की माला, सिर पर मुकुट […]

।। दोहा ।। गुरू पद पंकज ध्यान धर, सुमिर सच्चिदानन्द। श्याम चौरासी भणत हूं, रच चौपाई छन्द ।। ।। चौपाई ।। महर करो जन के सुखरामी। सांवलशाह खाटू के वासी।। प्रथम शीश चरणन में नाऊँ। कृपा दृष्टि रावरी चाहूँ।। माफ सभी अपराध कराऊँ। आदि कथा सुछन्द रच गाऊँ।। भक्त सुजन […]