दुष्यंत कुमार की गजल अपाहिज व्यथा