अमृतसर से स्पेशल ट्रेन दोपहर दो बजे चली और आठ घंटों के बाद मुगलपुरा पहुंची। रास्ते में कई आदमी मारे गए। अनेक जख्मी हुए और कुछ इधर-उधर भटक गए। सुबह दस बजे कैंप की ठंडी जमीन पर जब सिराजुद्दीन ने आंखें खोलीं और अपने चारों तरफ मर्दों, औरतों और बच्चों […]

मेरे मुतअल्लिक़ आम लोगों को ये शिकायत है कि मैं इश्क़िया कहानियां नहीं लिखता। मेरे अफ़सानों में चूँकि इश्क़ ओ मोहब्बत की चाश्नी नहीं होती, इस लिए वो बिल्कुल स्पाट होते हैं। मैं अब ये इश्क़िया कहानी लिख रहा हूँ ताकि लोगों की ये शिकायत किसी हद तक दूर हो […]

Do bailon ki katha premchand ki kahani : मुंशी प्रेमचंद ने अपनी कहानियों के माध्यम से न सिर्फ लोगों को जगाया बल्कि उनकी रचनाओं ने समय समय पर लोगों को सही संदेश भी दिया। दो बैलों की कथा भी मुंशी प्रेमचंद की ऐसी ही एक कहानी हैं जिसमें लेखक ने […]

मेरी पाँच बरस की लड़की मिनी से घड़ीभर भी बोले बिना नहीं रहा जाता। एक दिन वह सवेरे-सवेरे ही बोली, “बाबूजी, रामदयाल दरबान है न, वह ‘काक’ को ‘कौआ’ कहता है। वह कुछ जानता नहीं न, बाबूजी।” मेरे कुछ कहने से पहले ही उसने दूसरी बात छेड़ दी। “देखो, बाबूजी, […]

Story about crab and tortoise friendship बहुत पुरानी बात है । एक नदी के किनारे रहने वाले  कछुए और केकड़े की दोस्ती हो गयी। दोनों घंटो-घंटो तक नदी के किनारे पर साथ रहते।  कछुए को अपने दोस्त और उसकी दोस्ती पर बहुत नाज़ था । एक दिन कछुए ने नदी […]

हिंदी भाषी लेखक, नाटककार व कलाकार भीष्म साहनी को भारत विभाजन पर आधारित उनके प्रसिद्ध उपन्यास ‘तमस’ के चलते विश्वभर में जाना जाता है । साहित्य में उनके अमूल्य योगदान के कारण 1969 में पद्म श्री,  1998 में पद्म भुषम अवार्ड और 2002 में साहित्य अकादमी शिष्यवृत्ति से सुशोभित किया […]

All Post