शंकर की पुरी, चीन ने सेना को उतारा चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा हो जाय पराधीन नहीं गंग की धारा गंगा के किनारों ने शिवालय को पुकारा। चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा।   अम्बर के तले हिन्द की दीवार हिमालय सदियों से रहा शांति की मीनार हिमालय अब […]

All Post