Annapurna chalisa : श्री अन्नपूर्णा चालीसा ॥ दोहा ॥विश्वेश्वर पदपदम की रज निज शीश लगाय ।अन्नपूर्णे, तव सुयश बरनौं कवि मतिलाय । ॥ चौपाई ॥नित्य आनंद करिणी माता, वर अरु अभय भाव प्रख्याता ।जय ! सौंदर्य सिंधु जग जननी, अखिल पाप हर भव-भय-हरनी । श्वेत बदन पर श्वेत बसन पुनि, […]

शनिदेव (Shavi Dev) को न्याय का देवता कहा जाता है। सूर्यपुत्र शनिदेव सभी मनुष्यों के अच्छे और बुरे कर्मों के फलों को प्रदान करने वाले हैं। सभी देवों में शनि देव (Shani dev) को विशिष्ट स्थान प्राप्त है। शनि देव की महिमा (Shani Dev Mahima) ऐसी है कि वे पल […]

भगवान शिव के 11वें रुद्रावतार भगवान हनुमान जी ऐसे देवता है जो कलियुग में भी धरती पर विराजमान हैं। श्रीराम भक्त हनुमान जी को माता सीता ने अमरता का वरदान दिया था। कलियुग में हनुमान अकेले ऐसे देव हैं जिनकी पूजा अर्चना से वे बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं […]

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।