Chamunda chalisa

  • चामुण्डा देवी की चालीसा

    दोहा नीलवरण मा कालिका रहती सदा प्रचंड । दस हाथो मई ससत्रा धार देती दुस्त को दांड्ड़ ।। मधु केटभ...