डांस अंकल के नाम से फेमस हुआ यह आदमी, देखें वायरल वीडियो

dancer_1_0

फिल्म खुदगर्ज का सुपरहिट सोंग “दिल बहलता है मेरा आपके आ जाने से” आज भी इतना तरोताजा है कि किसी को भी झूमने पर मजबूर कर दे। ऐसे में एक अंकल ने इस गीत पर ऐसा ज़बरदस्त डांस किया कि उनका न सिर्फ सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा है, बल्कि उन्हें सोशल मीडिया पर एक नाम भी दिया गया है, जो है डांस अंकल।

सोचिये आपने लास्ट बार डांस कब किया था, शायद आपको जवाब देने से पहले दिमाग पर जोर डालना पड़े। ऐसे में सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले अंकल के डांस को देख शायद आपका मन भी डांस करने का करने लगे। बताया जा रहा है कि यह वीडियो इन अंकल की 25वीं एनिवर्सरी के मौके का है, जहाँ ये अपनी संगनी को घर में रखी गई एक शानदार पार्टी में दुबारा से अपनी जवानी के दिन याद दिलाते हुए, जमकर डांस किया तथा सोंग के बोलो को अपनी पत्नी को समर्पित किया है।


जहाँ स्टेज पर पहुँच उनकी वाइफ थोडा शर्मा रही थी तो दूसरी तरफ अंकल बिलकुल बिंदास होकर नाच रहे थे, इसके बावजूद उनकी पत्नी उनका साथ देनी की कोशिश कर रही थी। यह वीडियो इतना चर्चाओं में आ गया कि इन अंकल को सोशल मीडिया ने डांस अंकल का ही ख़िताब दे डाला।

यदि आप इस शानदार वीडियो को नहीं देख पाए हैं तो हम आपके लिए लाए है यह वीडियो, जिसमे आप डांस अंकल के डांस मूव के साथ साथ मौ. अज़ीज़ और साधना सरगम की आवाज़ का लुफ्त भी उठाएं। आपको बता दें कि इन डांस अंकल का असली नाम संजीव श्रीवास्तव है।

[wp_ad_camp_2]

[wp_ad_camp_2]

पेरिस में स्पाइडर मैन ने बचाई बच्चे की जान

जानिए क्यों फेमस हो गईं मेघना श्रीवास्तव

राजस्थान के खेतों में जब दिखा डायनोसोर

सलवार सूट पहन कर महिला उतरी रिंग में

जब दूसरी काजोल को देख कर  दंग रह गई काजोल की बेटी

 

Read all Latest Post on वीडियो video in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: break dance by sanjeev srivastava popularly known as dance uncle see viral video in Hindi  | In Category: वीडियो video

Next Post

सुभद्रा कुमारी चौहान की कविता : जलियाँवाला बाग में बसंत

Tue Jun 12 , 2018
Jallianwala bagh mein basant subhadra kumari chauhan यहाँ कोकिला नहीं, काग हैं, शोर मचाते, काले काले कीट, भ्रमर का भ्रम उपजाते। कलियाँ भी अधखिली, मिली हैं कंटक-कुल से, वे पौधे, व पुष्प शुष्क हैं अथवा झुलसे। परिमल-हीन पराग दाग़ सा बना पड़ा है, हा! यह प्यारा बाग़ खून से सना […]
Hindi Poem Subhadra Kumari Chauhan Poem Jallianwala Bagh Mai Basant

All Post


Leave a Reply