आखिर होटल, मोटल और रेस्टोरेंट में क्या फर्क होता है

What is the difference between Hotel, Motel, Restaurant and Resorts

What is the difference between hotel motel restaurant and resorts

हम से बहुत से लोग आए दिन एक जैसे शब्दों से दो चार होते हैं कई हमारे ऊपर से निकल जाते हैं तो कइयों को हम समझकर भी नहीं समझ पाते। ऐसे ही चार शब्द हैं होटल (Hotel), मोटल (Motel), रेस्टरोंट (Resaturants) और रिजॉर्ट (Resorts)। यूं तो एकबारगी देखने पर इन शब्दों में कोई खास अंतर नजर नहीं आता लेकिन सच बात यह है कि इन चारों शब्दों के मतलब अलग अलग हैं। आइए हम तफसील से खुलासा डॉट इन में  आपको इन शब्दों के बारे में बताते हैं।

# होटल Hotels

एक ऐसी जगह जहाँ रहने के लिए कमरा (Room), खाने के लिए खाना और बाक़ी की सुविधाएं हमारी जेब (Pocket) के अनुसार मिल जाए, होटल (Hotel) कहलाती है। पराए शहर में मुसाफिर को रिहाइश उपलब्ध कराना ही होटल (Hotel) का मुख्य उद्देश्य है। होटल में मुसफिरों को न सिर्फ रहने-खाने की वस्तुओं को सुविधा बल्कि टीवी (TV), फ्रिज (fridge) और वाई-फाई (Wi-Fi) जैसी सुविधाएं भी उपलब्ध करायी जाती हैं। मगर आपको बता दें कि ये सभी सभी होटलों में उपलब्ध हो जरुरी नहीं है। क्योंकि कुछ सस्ते होटल (Hotel) इन सुविधाओं के बगैर भी आने वाले मुसाफिरों को रहने और खाने-पीने की सुविधा उपलब्ध कराते हैं।  मुसाफिरों को खाना होटल की पर्सनल किचन (Personal kitchen) से परोसा जाता है और तो और कई बड़े होटलों का अपना पर्सनल रेस्टोरेंट भी होता है।


# मोटल Motels

मोटर (Moter) और होटल (Hotel) से मिलके बने मोटल (Motels) को होटल (Hotel) का छोटा रूप कहा जाए तो गलत नहीं होगा। मोटल का सिस्टम मुख्यतः हाइवे (Highway) पर होता है, जहाँ मुसाफिरों को रात रुकने का साधन उपलब्ध कराया जाता है। मोटल (Motels) अक्सर उन यात्रियों के लिए लाभकर होता है जो एक लम्बी यात्रा पर निकले है परन्तु वो रात में ड्राइव (Drive) नहीं करना चाहते। यहीं कारण है कि अधिकांश मोटल (Motels) सड़क के किनारे होते हैं। यहाँ मुसाफिरों के लिए कमरे के साथ ओपन पार्किंग स्पेस (Open parking space) की सुविधा भी होती है। कुछ मोटल खाने की सुविधा देते हैं पर यह सुविधा हर मोटल (Motels) पर उपलब्ध हो ऐसा कहना सही नहीं होगा। अत: मोटल में होटल जैसी तमाम सुविधाएं अक्सर नहीं होती हैं।

# रेस्टोरेंट Restaurants

रेस्टोरेंट (Restaurants) वो जगह होती है जहां लोग सिर्फ खाना खाने जाते हैं। इसे आप देसी ढाबों का अपग्रेडेड वर्जन (upgrade version) मान सकते हैं। यहाँ आप खाना खाते है, रेस्टोरेंट (Restaurants) के द्वारा तय की गयी धनराशि का भुगतान करते हैं और वापस अपने घर लौट जाते हैं। याद रहे कि किसी रेस्टोरेंट (Restaurants) में रहने की व्यवस्था नहीं होती।

#रिसोर्ट Resorts

रिसोर्ट (Resorts)  अमूमन टूरिस्ट प्लेस (Tourist place) पर होते हैं तथा इन्हें यात्रियों के आराम करने के उद्देश्य से बनाया जाता है। यहां लोग प्लानिंग (Planning) के साथ आते हैं तथा मौज मस्ती करना ही यहाँ आने वाले की प्रमुखता होती है। उम्दा खान-पान के साथ साथ यहाँ स्पोर्ट्स (Sports), एंटरटेनमेंट (entertainment) जैसी कई अन्य सुविधाएं दी जाती हैं। इतना ही नहीं यहाँ आने वालों के लिए स्विमिंग पूल (Swimming pool), स्पा (Spa) आदि की भी सहूलियत होती हैं। मगर एक बात जान ले ये जगह अन्य जगहों से ज्यादा खर्चीली है ।

Read all Latest Post on रोचक जानकारी interesting facts in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: what is the difference between hotel motel restaurant and resorts in Hindi  | In Category: रोचक जानकारी interesting facts

Next Post

Shravan 2019: श्रावण मास में श्री गणेश पूजन से भी होता है विशेष लाभ

Mon Aug 5 , 2019
Shravan 2019: In the month of Shravan, Shri Ganesh also gives a boon : श्रावण माह मूल रूप से भगवान शिव का माना जाता है परन्तु पुराणों के अनुसार इसी माह में श्री गणेश, माता पार्वती और श्री कृष्ण की पूजा भी शुभ फलदायक होती है। माना जाता है कि […]
Shravan 2019: In the month of Shravan, Shri Ganesh also gives a boon

All Post