विश्व के बड़े आविष्कार जो पहले भारत में हुए फिर दुनिया ने अपनाए

10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

10 Indian Inventions and Discoveries that Shaped
the modern world in Hindi

सैंकड़ों वर्ष से बुद्धिजीवियों के बीच में इस बात को लेकर विवाद है कि पश्चिम (West) ने संसार को विज्ञान (Science) दिया और पूरब (East) ने संसार को धर्म (religion) दिया है। मगर बहुत से लोग ये नहीं जानते कि पूरब (East) ने संसार को सिर्फ धर्म (Religion) ही नहीं विशुद्ध विज्ञान (Science) भी दिया है। भारत के बिना संसार में न धर्म (Religion) की ही कल्पना की जा सकती है और न विज्ञान (Science) की।

भारतीय ऋषियों ने पूरी मानव सभ्यता को कुछ ऐसे सिद्धांत और आविष्कार दिए हैं जिनके बल पर आज के संसार का पूरा विज्ञान (Science) खड़ा है। भारत के मनीषियों द्वारा दिए गए जीरो (Zero) और दशमलव (Decimal) के ज्ञान के बिना आज के संसार के विज्ञान (Science) की कल्पना करना मुश्किल है। खुलासा डॉट कॉम में हम भारतीय ऋषियों द्वारा संसार को दिए गए ऐसे ही कुछ आविष्कारों की बात करेंगे।


विमान का आविष्कार (Aeroplane invention)

old-bharat-vimaan : aeroplane invention
Aeroplane invention: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

हमे पढाया जाता है कि सर्वप्रथम राइट ब्रदर्स (Wright brothers) ने विमान का आविष्कार (Airplane invention) किया था मगर सच ये है कि  ऋषि भारद्वाज (Rishi Bhardwaj) के लिखे विमानशास्त्र (Vimana Shastra) में हवाई जहाज बनाने की तकनीक का वर्णन मिलता है, जो कि राइट ब्रदर्स (Wright brothers) से हजारों वर्ष पूर्व लिखी गयी थी ।

इस शास्त्र में कई तरीके के विमानों का वर्णन है | इसके अतिरिक्त स्कंद पुराण (Skand puran) के खंड 3 अध्याय 23 में बताया गया है कि ऋषि कर्दम (Rishi kardam) ने अपनी पत्नी के लिए एक विमान की रचना की थी जिसके द्वारा वो कही भी आ जा सकती थी | पुष्पक विमान (Pushpaka vimana) जिसमें बैठकर रावण सीताजी को हर के ले गया था, उसका वर्णन भी रामायण में मिलता है ।

अस्त्र और शस्त्र (Weapons invention)

indian-astra-and-shastra : Weapons invention
Weapons invention: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

हिन्दू धर्म के पुराणों व वेदों जैसे आग्नेयास्त्र, वरुणास्त्र, पाशुपतास्त्र, सर्पास्त्र, ब्रह्मास्त्र आदि में ऐसे अस्त्रों जैसे इन्द्र अस्त्र, आग्नेय अस्त्र, वरुण अस्त्र, नाग अस्त्र, नाग पाशा, वायु अस्त्र, सूर्य अस्त्र, चतुर्दिश अस्त्र, वज्र अस्त्र, मोहिनी अस्त्र, त्वाश्तर अस्त्र, सम्मोहन/ प्रमोहना अस्त्र, पर्वता अस्त्र, ब्रह्मास्त्र, ब्रह्मसिर्षा अस्त्र, नारायणा अस्त्र, वैष्णव अस्त्र, पाशुपत अस्त्र आदि के बारे में बताया गया है जिनका आधुनिक रूप बंदूक, मशीनगन, तोप, मिसाइल, विषैली गैस तथा परमाणु अस्त्र को माना जा सकता हैं।

महाभारत के युद्ध में ब्रह्मास्त्र नामक प्रलयकारी अस्त्र के बारे में बताया गया है, जो आधुनिक काल में परमाणु बम (Atom bomb) के जैसा है अत: माना जा सकता है कि परमाणु बम (Atom bomb) के जनक जे. रॉबर्ट ओपनहाइमर (J Robert Oppenheimer) ने गीता या महाभारत का गहन अध्ययन कर ब्रह्मास्त्र की संहारक क्षमता पर शोध किया और जो अस्त्र तैयार किया उसे ट्रिनिटी (त्रिदेव) नाम दिया था।

विज्ञान के अनुसार जॉन डाल्टन (Jon dalton) ने परमाणु सिद्धांत की खोज की और परमाणु अस्त्र का निर्माण किया परन्तु ऋषि कणाद (Rishi kanada) ने अपने वेदों में 2,500 वर्ष पूर्व ही परमाणु सिद्धांत के सूत्रों का प्रतिपादन कर दिया था अत: ऋषि कणाद (Rishi kanada) को भारतीय इतिहास में परमाणुशास्त्र का जनक माना जाता है।

पहिए का आविष्कार (Wheel invention)

wheel-invention
Wheel invention: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

आज से 5,000 और कुछ 100 वर्ष पूर्व महाभारत का युद्ध हुआ जिसमें रथों के उपयोग का वर्णन है यानि कि पहिए 5,000 वर्ष पूर्व थे जबकि पश्‍चिमी विद्वान पहिए के आविष्कार का श्रेय इराक को देते हैं, जबकि इराक के लोग 19वीं सदी तक रेगिस्तान में ऊंटों की सवारी करते थे ।

इस बात को ऐसे भी प्रमाणित किया जा सकता है जब महाभारत का युद्ध हुआ तो उसमे रथों के उपयोग का वर्णन भी किया जाता है अत: क्या बिना पहियों के कोई रथ हो सकता है ? जवाब होगा नहीं, इसलिए इससे सिद्ध होता है कि पहियों का निर्माण व उपयोग 5,000 वर्ष पूर्व ही शुरू कर दिया गया था।

शल्य चिकित्सा (Surgery)

shalya-chikitsha-indian
Surgery: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

शरीर का यदि कोई हिस्सा जल जाए या कट जाए या फिर किसी तरह से क्षतिग्रस्त होने पर उसे पुन: ठीक करना प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) कहलाता है, जिसे पश्चिम देश के निवासी आधुनिक विज्ञान की देन मानते है। परन्तु तक़रीबन 3,000 साल पहले भी युद्ध या प्राकृतिक विपदाओं में क्षतिग्रस्त अंगो को ठीक करने का काम सुश्रुत (Sushruta) किया करते थे।

1,000 ईसा पूर्व ही सुश्रुत (Sushruta) ने प्रसव, मोतियाबिंद, कृत्रिम अंग लगाना, पथरी का इलाज और प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) जैसी कई तरह की जटिल शल्य चिकित्सा (Surgery) के सिद्धांत प्रतिपादित कर दिए थे। कुछ लोगो का मानना है कि सुश्रुत का काल 800  ईसा पूर्व का मानते हुए धन्वंतरि को प्रमुखता देते है ।


बिजली का आविष्कार (Light invention)

light-bulb
light invention: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

बिजली का आविष्कार थॉमस एडिसन (Thomas edison) ने किया मगर एडिसन ने अपनी एक किताब में ज़िक्र किया हैं कि मैं एक रात संस्कृत का एक वाक्य पढ़ते-पढ़ते सो गया तथा स्वप्न में मुझे उस वचन का अर्थ और रहस्य समझ में आया जिससे मुझे बिजली बनाने में मदद मिली।

ये संस्कृत के वचन वैदिक ॠषि महर्षि अगस्त्य (Maharshi Agastya) ने लिखे थे । आप को जानकर हैरत होगी कि महर्षि अगस्तय (Maharshi Agastya) राजा दशरथ के राजगुरू थे। महर्षि अगस्तय (Maharshi Agastya) की गणना सप्तर्षियों में की जाती है। महर्षि अगस्तय (Maharshi Agastya) ने अगस्तय संहिता नामक ग्रंथ की रचना की जिसमें विद्युत उत्पादन से संबंधित सूत्र मिलते हैं।

शर्ट के बटन का आविष्कार (Button invention)

button invention
10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

शर्ट के बटन (Shirt button) का आविष्कार भी भारत में ही हुआ है और इसका प्रमाण मोहन जोदड़ो (Mohenjo daro) की खुदाई में प्राप्त हुए बटन हैं । मोहन जोदड़ो (Mohenjo daro) सभ्यता सिन्धु नदी के पास 2500 से 3000 पहले यह सभ्यता अपने अस्तित्व में थी।


ज्यामिति (Geometry)

inventions_17
Geometry: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

आज विश्व में यूनानी ज्या‍मितिशास्त्री (Geometry) पाइथागोरस (Pythagoras) और यूक्लिड (euclid) के सिद्धांत को पढाया जाता है मगर भारत के प्राचीन गणितज्ञ, शुल्व सूत्र तथा श्रौतसूत्र के रचयिता बौधायन ने पाइथागोरस के सिद्धांत से पूर्व ही ज्यामिति के सूत्र रच लिए थे क्योंकि 2800 वर्ष यानि कि 800 ई०पू० बौधायन ने रेखागणित, ज्यामिति के महत्वपूर्ण नियमों की खोज कर ली थी परन्तु उस वक़्त भारत में रेखागणित, ज्यामिति या त्रिकोणमिति को शुल्व शास्त्र के नाम से जाना जाता था ।

रेडियो (Radio)

radio
Radio: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

हमने पढ़ा है कि जी. मार्कोनी ने रेडियो का आविष्कार (Marconi radio inventor) किया था, अगर आप हिंदुस्तान का इतिहास पढ़े तो आप इस बात को नकार सकते है । ऐसा माना जाता है कि मार्कोनी को  भारतीय वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु के लाल डायरी के नोट के आधार पर उन्होंने रेडियो का आविष्कार किया।

1909 में मार्कोनी (Marconi) को वायरलेस टेलीग्राफी के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था लेकिन 1985 में जगदीश चंद्र बसु ने संचार के लिए रेडियो तरंगों का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन मिलीमीटर तरंगें और क्रेस्कोग्राफ सिद्धांत की खोज की थी | मगर बासु की खोज के 2 साल बाद मार्कोनी ने अपनी खोज का प्रदर्शन किया और इसका सारा श्रेय अपने हिस्से में ले गए ।


उस समय भारत गुलाम देश था इसलिए जगदीश चंद्र बसु को ज्यादा महत्व नहीं दिया गया। साथ ही साथ वो आविष्कार को पेटेंट कराने में असफल रहे जिसके चलते मार्कोनी को रेडियो का आविष्कारक माना जाने लगा। संचार की दुनिया में रेडियो का आविष्कार सबसे बड़ी सफलता है।

गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत (Gravity)

gravetiy
Gravity: 10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

प्राचीन भारत के सुप्रसिद्ध गणितज्ञ एवं खगोलशास्त्री भास्कराचार्य ने ‘सिद्धांतशिरोमणि’ नामक ग्रन्थ में गुरुत्वाकर्षन के नियम का उल्लेख मिलता है । इस ग्रंथ का अनेक विदेशी भाषाओं में अनुवाद भी हुआ तथा सिद्धांत यूरोप में प्रचारित हुआ। भास्कराचार्य ने न्यूटन से 500 वर्ष पूर्व ही गुरुत्वाकर्षण के नियम को विस्तार से लिखा था ।

भास्कराचार्य ने अपने ग्रंथ ‘लीलावती’ में गणित और खगोल विज्ञान संबंधी विषयों के बारे में लिखा है तो सन् 1163 ई. में उन्होंने ‘करण कुतूहल’ नामक ग्रंथ की रचना की सूर्यग्रहण और चन्द्रग्रहण होने का सम्पूर्ण वर्णन है । अत: यह पहला गुरुत्वाकर्षण, चन्द्रग्रहण और सूर्यग्रहण के बारे में लिखित प्रमाण था ।

व्याकरण (Grammar)

hindi-grammar
10 indian inventions and discoveries that shaped the modern world

500 ईसा पूर्व पंजाब के शालातुला में जन्मे पाणिनी ने भाषा के शुद्ध प्रयोगों की सीमा का निर्धारण कर के दुनिया के पहले व्याकरण की रचना की । भाषा को सुव्यवस्थित तथा संस्कृत भाषा का व्याकरणबद्ध पाणिनी ने ही किया था । इन्होने 8 अध्याय और लगभग 4 सहस्र सूत्र की रचना कर उसे अष्टाध्यायी का नाम दिया ।

अष्टाध्यायी को मात्र व्याकरण ग्रंथ नही कहा जा सकता क्योंकि इसमें तत्कालीन भारतीय समाज का पूरा विवरण मिलने के साथ साथ भूगोल, सामाजिक, आर्थिक, शिक्षा और राजनीतिक जीवन, दार्शनिक चिंतन, खान-पान, रहन-सहन आदि के बारे में बताया गया है ।

जब 19वीं सदी में यूरोप के एक भाषा विज्ञानी फ्रेंज बॉप ने पाणिनी के कार्यों पर शोध किया तथा आधुनिक भाषा विज्ञान के विस्तार में मदद मिली। अत: पाणिनी के ग्रंथ का योगदान ही दुनिया की सभी भाषाओं के विकास में सहयोगी रहा।

 

 

 

 

Read all Latest Post on अजब गजब weird stories in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें
Title: world top 10 invention that changed the world happend in india in Hindi  | In Category: अजब गजब weird stories

Next Post

एक बार फिर इमरान हाशमी है चर्चाओं में, Bard of Blood का ट्रेलर हुआ आउट

Sat Sep 14 , 2019
एक लम्बे इंतजार के बाद एक बार फिर इमरान हाशमी (Emraan hashmi) हम सबके बीच होंगे। अपनी पहली वेब सीरिज बार्ड ऑफ ब्लड (Bard of blood) के साथ, जिसका निर्माण शाहरुख खान (Sharukh khan) की प्रोडक्शन कंपनी रेड चिलीज एंटरटेनमेंट (Red chilli entertainment) ने किया है। चूँकि इस वेब सीरिज […]
'Bard of Blood' Trailer is Finally Here, and Here Are the Memes We Know You've Been Waiting For'Bard of Blood' Trailer is Finally Here, and Here Are the Memes We Know You've Been Waiting For

All Post


Leave a Reply

error: खुलासा डॉट इन khulasaa.in, वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख कॉपीराइट के अधीन हैं। यदि कोई संस्था या व्यक्ति, इसमें प्रकाशित किसी भी अंश ,लेख व चित्र का प्रयोग,नकल, पुनर्प्रकाशन, खुलासा डॉट इन khulasaa.in के संचालक के अनुमति के बिना करता है , तो यह गैरकानूनी व कॉपीराइट का उल्ल्ंघन है। यदि कोई व्यक्ति या संस्था करती हैं तो ऐसा करने वाला व्यक्ति या संस्था पर खुलासा डॉट इन कॉपी राइट एक्त के तहत वाद दायर कर सकती है जिसका सारे हर्जे खर्चे का उत्तरदायी भी नियम का उल्लघन करने वाला व्यक्ति होगा।