एक खूबसूरत बावड़ी के किनारे बनाये गयी दो मंजिला मंदिर की विशेषता बाहरी दीवारों पर की गई पच्चीकारी है, जिनमे कहीं सात अश्वों के रथ पर सवार सूर्य,  तो कहीं विष्णु हैं तथा कहीं अन्य देवसमूह दर्शाये गए है । इन पच्चीकारी में मैथुन प्रतिमाएं भी दिखायी गयी है । मगर शायद वास्तुकार ने कभी भी खजुराहो की मैथुन प्रतिमाओं को नहीं देखा था,  अन्यथा वो उसकी भी नकल जरूर करता।

कुछ धार्मिक अवसरों पर भक्तगण यहाँ उपासना करते हैं अन्यथा भव्यता और आकर्षक होने के बावजूद यह मंदिर पर्यटकों से अछूता है। आसपास की हरियाली इसके सौंदर्य में चार चांद लगाती है, जैसे खेत-खलिहानों के बीच खड़े इस मंदिर से संपूर्ण परिवेश जीवंत हो गया हो | कर्वी जिला मुख्यालय से इसकी दूरी महज 4 किलोमीटर तथा धार्मिक नगरी चित्रकूट दस किलोमीटर है व कालिंजर किला यहाँ से 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, फिर भी ना जाने क्यों कर्वी का जिला प्रशासन अभी तक इस अमूल्य धरोहर से अनजान बना हुआ है |

News Keyword: Bundelkhand: The hand that built Khajuraho temples, Bundelkhand, Temple, Khajuraho, King Chhatrapal, Baji Rao I Peshwa, Marathon, Ganesh Bagh, Mini Khajuraho

Read all Latest Post on खेल sports in Hindi at Khulasaa.in. Stay updated with us for Daily bollywood news, Interesting stories, Health Tips and Photo gallery in Hindi
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए khulasaa.in को फेसबुक और ट्विटर पर ज्वॉइन करें